डीए पर कटौती की मार झेल रहे कर्मचारियों को हालांकि सरकार ने पूर्वोत्तर, लद्दाख, अंडमान निकोबार द्वीप समूह और जम्मू-कश्मीर की यात्रा के लिए लीव ट्रैवल अलाउंस (एलटीए) की सुविधा दो साल के लिए बढ़ा दिया।

कोरोना संकट के चलते इस साल केंद्रीय कर्मचारियों को महंगाई भत्ते (DA) बढ़ोत्तरी का फायदा नहीं मिल रहा है। सरकार कर्मचारियों को 17 फीसदी की दर से ही महंगाई भत्ते का भुगतान कर रही है। सरकार ने फरवरी में इसे चार फीसदी बढ़ा दिया था। सरकार ने तय किया है कि कर्मचारियों और पेंशनर्स को जून 2021 तक इसी दर के आधार पर डीए का भुगतान किया जाएगा।

क्या  होता है DA: बढ़ते हुए दैनिक जीवन के खर्चों और महंगाई के लगातार बढ़ने के बाद रेट में होने वाले इजाफे से क्रय शक्ति को बनाए रखने के लिए सरकार कर्मचारियों और पेंशनर्स को डीए का भुगतान करती है। ऑल इंडिया कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स आधारित महंगाई दर का इस्तेमाल कर इसीक कैलकुलेशन होती है। सरकार ऑल इंडिया कंज्यूमर प्राइस इंडेक्स के आधार वर्ष को बदल सकती है।

वंही डीए पर कटौती की मार झेल रहे कर्मचारियों को हालांकि सरकार ने पूर्वोत्तर, लद्दाख, अंडमान निकोबार द्वीप समूह और जम्मू-कश्मीर की यात्रा के लिए लीव ट्रैवल अलाउंस (एलटीए) की सुविधा दो साल के लिए बढ़ा दिया है।

वहीं वित्त मंत्रालय के अंतर्गत डिपार्टमेंट ऑफ एक्सपेंडीचर ने जून में एलटीए के साथ बोर्डिंग पास अटैच करने की शर्त को हटा दिया था। इससे 48 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को फायदा मिल रहा है।

क्या होता है LTA: एलटीए कर्मचारी के सीटीसी का हिस्सा होता है। इस भत्ते को लीव ट्रैवल कनसेशन भी कहते है। देश में कहीं भी यात्रा करने पर यह क्लेम लिया जा सकता है। कर्मचारी अपने परिवार के साथ या अकेले घूमने जा सकते हैं।