रेलवे कर्मचारियों ने रेलवे के निजीकरण और पुरानी पेंशन योजना लागू करने की मांग को लेकर मोर्चा खोलने की तैयारी शुरू कर दी है। 14 सितंबर से कर्मचारी रेलवे स्टेशन पर अलग अलग प्रारूप में आंदोलन शुरू करेंगे।

रेलवे निजीकरण के विरोध में ऑल इंडिया रेलवे फेडरेशन और नार्दर्न रेलवे मैंस यूनियन के नेतृत्व में आंदोलन शुरू किया जाएगा। एनआरएमयू प्रांतीय सचिव संजय सिंह ने बताया कि सरकारी महकमों को निजीकरण में बदलने की नीति के खिलाफ आंदोलन चलाया जाएगा।

बताया कि पढ़ाई करने के बाद अधिकांश युवा सरकारी महकमों में नौकरी पाने की इच्छा रखते हैं, लेकिन सरकार की ओर से निजीकरण की नीति से युवाओं का भविष्य अंधकार में चला जाएगा। बताया कि रेलवे का निजीकरण, नई पेंशन के नियम को हटाकर पुरानी पेंशन योजना लागू करने को लेकर आंदोलन किया जाएगा।

यह आंदोलन रेलवे कर्मचारियों द्वारा 14 से 19 सितंबर तक मशाल जुलूस, बाइक रैली, हाथ पर काला फीता बांधकर अलग अलग प्रारुप में किया जाएगा।