लड़की की जिद के आगे बेबस हुआ रेलवे, इकलौती सवारी के लिए 535 Km दौड़ानी पड़ी राजधानी एक्सप्रेस

अनन्या रात करीब 1.45 बजे ट्रेन रांची रेलवे स्टेशन पहुंची. ट्रेन में अनन्या इकलौती सवारी थी. 930 यात्रियों में 929 को रेलवे डालटनगंज से बसों से गंतव्य की ओर पहले ही रवाना कर चुकी थी.

रांची: एक युवती की जिद के आगे रेलवे (Indian Railways) को झुकना पड़ा और इकलौती सवारी के लिए राजधानी एक्सप्रेस (Rajdhani Express) ट्रेन चलानी पड़ी. यह लड़की 535 किलोमीटर का सफर तय कर रात एक बजकर 45 मिनट पर रांची पहुंची. जाऊंगी तो राजधानी एक्सप्रेस से ही. यदि बस से जाना होता तो ट्रेन का टिकट क्यों लेती. बस से सफर कर रांची आती. टिकट राजधानी एक्सप्रेस का है तो इसी से जाऊंगी. 

टाना भगतों के आंदोलन से डालटनगंज स्टेशन पर फंसी राजधानी एक्सप्रेस में सवार अनन्या ने यह जिद पकड़ ली तो रेलवे अधिकारी भी परेशान हो गए. क्या करें, उन्हें समझ में नहीं आ रहा था. अंत में जिद के आगे उन्हें झुकना पड़ा. राजधानी एक्सप्रेस शाम करीब चार बजे डालटनगंज से वापस गया ले जाकर गोमो और बोकारो होते हुए रांची के लिए रवाना करनी पड़ी. 

 

अनन्या रात करीब 1.45 बजे ट्रेन रांची रेलवे स्टेशन पहुंची. ट्रेन में अनन्या इकलौती सवारी थी. 930 यात्रियों में 929 को रेलवे डालटनगंज से बसों से गंतव्य की ओर पहले ही रवाना कर चुकी थी. संभवत: रेलवे के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब एक सवारी को छोड़ने के लिए राजधानी एक्सप्रेस ने 535 किलोमीटर की दूरी तय की.