वीके यादव

हाइलाइट्स:

  • वी के यादव होंगे रेलवे बोर्ड के पहले चेयरमैन और सीईओ
  • मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने उनकी नियुक्ति को मंजूरी दी
  • इससे पहले मंत्रिमंडल ने रेलवे बोर्ड के पुनर्गठन को मंजूरी दी थी
  • इसके सदस्यों की संख्या 8 से घटाकर 5 कर दी गई थी

रेलवे बोर्ड के चेयरमैन वी के यादव को साथ ही बोर्ड का सीईओ बनाया गया है। रेलवे के इतिहास में वह इस तरह का पद संभालने वाले पहले व्यक्ति हैं। मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने उनकी नियुक्ति को मंजूरी दे दी है। इससे पहले मंत्रिमंडल ने रेलवे बोर्ड के पुनर्गठन को मंजूरी दी थी। इसके सदस्यों की संख्या 8 से घटाकर 5 कर दी गई है।

यादव को जहां रेलवे बोर्ड का चेयरमैन और सीईओ बनाया गया है वहीं प्रदीप कुमार (इन्फ्रास्ट्रक्चर), पीसी शर्मा (ट्रैक्शन एंड रोलिंग स्टॉक), पीएस मिश्रा को ऑपरेशंस एंड बिजनस डेवलपमेंट और मंजुला रंगराजन (फाइनेंस) को मेंबर बनाया गया है। इस नई व्यवस्था के साथ तीन पद मेंबर (स्टाफ), मेंबर (इंजीनियरिंग) और मेंबर (मटीरियल्स मैनेजमेंट) सरेंडर कर दिए गए हैं। मेंबर (रोलिंग स्टॉक) के पद का इस्तेमाल डायरेक्टर जनरल (एचआर) के पद के सृजन के लिए किया गया है।

रेलवे कि योजना के मुताबिक चेयरमैन और सीईओ कैडर कंट्रोलिंग ऑफिसर होगा जो डीजी (एचआर) की मदद से मानव संसाधनों के लिए जिम्मेदार होगा। इंडियन रेलवे मेडिकल सर्विस (IRMS) का नाम बदलकर इंडियन रेलवे हेल्थ सर्विस (IRHS) किया जाएगा। रेलवे के 8 विंग्स को मिलाकर एक सेंट्रल सर्विस बनाने का काम चल रहा है। इसे इंडियन रेलवे मैनेजमेंट सर्विस (IRMS) नाम दिया गया है।