Indian Railways' private trains may provide you preferred seats; check  other features | Economy News | Zee News

रेलवे ने रेलकर्मियों की सुविधाओं को डिजिटल इंडिया बनाने की मुहिम छेड़ दी है। अब रेलकर्मियों को अपना रेलवे पास के लिए न तो ऑफिस का चक्कर लगाना पड़ेगा और न ही रेलवे पास का किसी तरह की दुरुपयोग होने की चिंता सताएगी। रेलवे पास का दुरूपयोग होगा बंद, टिकट बुक होगा तभी रेल में बैठ सकेंगे रेलकर्मी, रेलवे ने टिकट चेकिंग स्टाफ को यह खास हिदायत दी है। अब रेलवे रेलकर्मियों को रेलवे ई-पास मुहैया करा रहा है।

रेलकर्मियों को उनके मोबाइल पर ही उनका ई-पास भेजा रहा है। इसकी सुविधा देश के विभिन्न जोनों व मंडलों के साथ साथ अब ईस्टर्न रेलवे, कोलकाता में भी शुरू हो गयी है। आने वाले कुछ माह में मालदा और जमालपुर रेल इंजन कारखाना व डीजल शेड सहित ओपन लाइन जमालपुर के विभिन्न विभागों के रेलकर्मियों को भी यह मिलने लगेगी। यह जानकारी ईस्टर्न रेलवे के एक वरीय अधिकारी ने दी है। उन्होंने कहा कि डिजिटल इंडिया अभियान के तहत रेलकर्मियों की यह सहूलियत दी जा रही है।

इसकी शुरुआत 24 अगस्त 20 से ही पूर्वोत्तर रेलवे के इज्जतनगर डिवीजन में किया गया है। इसकी सफलता के बाद 25 अगस्त को लखनऊ और वाराणसी डिवीजन में सुविधा दी गयी है। अब ईस्टर्न रेलवे कोलकाता प्रशासन ने भी अपने रेलकर्मियों को ई-पास मुहैया करा रहा है। जल्द ही मालदा सहित अन्य डिवीजनों में ऐसी सुविधा दी जाएगी। उन्होंने रेलवे ने ई-पास की सुविधा देकर रेलवे पास को पेपसलेस कर दिया है। ई-पास में बारकोड/क्यूआर कोड प्रत्येक रेलकर्मियों के लिए अलग अलग दिए गए हैं। जो यात्रा ट्रेन टिकट आरक्षण कराने में सहूलियत होगी।

रेलकर्मियों को ई-पास सुविधा मिलने से जहां यात्रा ट्रेन टिकट आरक्षित कराने को लेकर स्टेशन की आरक्षण टिकट काउंटर पर लाइन लगने की जरूरत नहीं पड़ेगी, वहीं अब घर बैठे ही यात्रा आरक्षित टिकट बुक कराना आसान हो जाएगा। इसके लिए आपको सिर्फ आईआरसीटीसी की वेबसाइट पर जाना होगा। तथा टिकट बुकिंग के लिए सभी कॉलम भरने के बाद अपना ई-पास अपलोड करेंगे। और टिकट कंफर्म हो जाएगा। इससे समय का बचत के साथ कागज की भी बचत होगी और पर्यावरण संरक्षण को भी बल मिलेगा।