Railway Recruitment Board Exam (RRB) Rail transport India Railway  Recruitment Control Board, India, text, logo, india png | PNGWing

रेलवे बोर्ड़ के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने कहा है कि जल्दी कुछ नई विशेष ट्रेनें चलाई जाएंगी। इसके लिए राज्य सरकारों के साथ रेलवे की बातचीत चल रही है। रेलवे ट्रेनों में बढती प्रतीक्षा सूची टिकट बुकिंग पर नजर बनाए हुए है। करीब ४० प्रतिशत ऐसी विशेष ट्रेनें हैं‚ जोकि भरी हुई जा रही हैं। पहले ऐसी विशेष ट्रेनों की संख्या केवल ३० प्रतिशत थी। ॥ उल्लेखनीय है कि लॉकड़ाउन के बाद एक जून से २०० विशेष मेल/एक्सप्रेस ट्रेनें चलाई गई थीं‚ लेकिन बीते ढाई महीने के दौरान इनमें बहुत सी ट्रेनें सौ प्रतिशत की अधिक बुकिंग पर चल रही हैं जबकि कुछ ट्रेनों में स्लीपर और सामान्य कोच में प्रतीक्षा सूची के टिकट नहीं हैं।

इस पर रेलवे बोर्ड़ के चेयरमैन ने स्पष्ट किया कि अभी तक चल रही २३० विशेष ट्रेनों की कुल क्षमता की औसतन ८० प्रतिशत बर्थ भरी हुई हैं। कोरोना संकट के कारण तमाम सावधानियों के चलते राज्य सरकारों के सामने नई ट्रेनों को चलाने के लिए चुनौती है‚ लेकिन फिर भी मांग बढ़ रही है। इस संबंध में राज्य सरकारों से बातचीत कर रही है। जल्दी ही कुछ नई विशेष ट्रेनें चलाई जाएंगी। ॥

रेलवे की नई समय सारणी अप्रैल २०२१ मेंः रेलवे बोर्ड़ चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने कहा कि रेलवे की नई समय–सारिणी अप्रैल २०२१ में आएगी। इस समय–सारिणी में मेल/एक्सप्रेस और यात्री ट्रेनों की रफ्तार में इजाफा जरूर होगा। इसको तैयार करने के लिए आईआईटी‚ मुंबई की मदद ली जा रही है। इसमें मालगाड़़ी‚ यात्री ट्रेनें और मेंटीनेंस के लिए टाइम कॉरिड़ोर होगा। उन्होंने बताया कि दिल्ली–मुंबई और दिल्ली–कोलकाता रेल रूट १३० किलोमीटर प्रतिघंटे का हो गया है। इसका जुलाई में प्रमाणपत्र मिल चुका है। यह नए समय–सारणी में शामिल होगा। अभी तक इस रूट पर ११० किलोमीटर प्रतिघंटे से ट्रेनें चल रही हैं। अब १३० किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से फिर वर्ष २०२३ में १६० किलोमीटर प्रतिघंटे से ट्रेनें चलेंगी॥

रेलवे मेल सर्विस के जरिए अभी तक ड़ाक सेवा की सुविधा मुहैया कराना वाला रेलवे अब धीरे–धीरे पार्सल सर्विस की ओर बढ़ø रहा है। इस सेवा के जरिये रेलवे उपभोक्ताओं को घर–घर पार्सल पहुंचाया जाएगा। यह सेवा ड़ाक विभाग की मदद से चलेगी। ड़ाक विभाग उपभोक्ताओं के घर से पार्सल उठाएगा और फिर उसे उपभोक्ता के घर तक पहुंचाएगा। स्टेशन से स्टेशन के बीच की दूरी विशेष पार्सल ट्रेनों के जरिये तय होगी। इसके लिए रेलवे समय–सारिणी वाले विशेष पार्सल ट्रेनें चलाएगा॥। इस संबंध में रेलवे बोर्ड़ के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने आज बेबिनार के जरिये पत्रकारों से बातचीत में कहा कि इस योजना की शुरुûआत सेंट्रल रेलवे में की जा चुकी है। अब इसे देशभर में शुरू करने की योजना है।

उन्होंने बताया कि उपभोक्ताओं के घर से घर तक पार्सल पहुंचाने की जिम्मेदारी ड़ाक विभाग की होगी। ड़ाक विभाग उपभोक्ता का पार्सल को लेकर जिस स्टेशन पर पहुंचेगा वहां से गंतव्य स्टेशन तक रेलवे समय–सारिणी वाले विशेष स्पेशल ट्रेनों से पार्सल को पहुंचाएगा। फिर यहां से ड़ाक विभाग उपभोक्ता के घर तक पार्सल को पहुंचाएगा। इससे उपभोक्ताओं को बहुत जल्दी सामान मिल जाएगा। इससे उपभोक्ता को पार्सल भेजने में समय की बचत होगी। सेंट्रल रेलवे में योजना की शुरुûआत हो गयी है॥। सहारा न्यूज ब्यूरो॥ नई दिल्ली। ॥ चल रही विशेष ट्रेनों में बढ़ी हैं यात्रियों की संख्या॥ नई ट्रेनों को चलाने के लिए चल रही है राज्य सरकारों से बातचीत॥