IRCTC : रेल कर्मियों को ई-टिकट के लिए नहीं चुकाना होगा सर्विस चार्ज, जानें कब से लागू होगी नई व्यवस्था

IRCTC रेल कर्मियों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है। भारतीय रेलवे ने रेल कर्मियों के लिए ई-पास एवं ई-पीटीओ सुविधा लागू कर दी है। इसके तहत सेवारत कर्मचारियों के लिए ई-पास और ई-पीटीओ का ट्रायल शुरू कर दिया गया है। अब उन्हें भी घर बैठे पास व पीटीओ से ऑनलाइन टिकट बुक करने का अवसर मिलेगा। ऑनलाइन बुकिंग पर आम यात्रियों को अतिरिक्त सुविधा शुल्क चुकाना पड़ता है। स्लीपर क्लास का ऑनलाइन टिकट बुक करने पर 15 रुपए व एसी के लिए 30 रुपए सुविधा शुल्क लगता है। वहीं, नई व्यवस्था के तहत रेल कर्मियों को यह सुविधा शुल्क नहीं चुकाना होगा। रेलवे के सेवानिवृत्त कर्मचारियों को यह खास सुविधा एक अक्टूबर से मिलेगी।

एक नवंबर से सिर्फ ई-पास व ई-पीटीओ ही जारी होंगे :  रेलकर्मी मौजूदा पास व पीटीओ का उपयोग 31 अक्टूबर तक ही कर सकेंगे। एक नवंबर से रेलवे सेवारत व रिटायर दोनों कर्मचारियों के लिए सिर्फ ई-पास व ई-पीटीओ ही जारी करेगी। रेलवे ने पास व पीटीओ की हार्ड कॉपी वाली व्यवस्था को अगले साल एक अप्रैल से स्थाई तौर पर बंद करने का निर्णय लिया है। यानी सिर्फ ई-पास से ही टिकट की बुकिंग होगी। 

एचआरएमएस एप डाउनलोड करना होगा : इस सुविधा का लाभ लेने के लिए मानव संसाधन प्रबंधन प्रणाली यानी एचआरएमएस एप डाउनलोड करना होगा। इसमें लॉगइन आइडी व रेलवे से मिलने वाले पासवर्ड की मदद से लॉगइन करना होगा। इसके बाद ई-पास डाउनलोड कर अपनी मर्जी से जब चाहें ऑनलाइन टिकट बुक करा सकेंगे। 

न दफ्तर का चक्कर, न आरक्षण काउंटर की लाइन : ई-पास के जरिए मिलने वाली सुविधाओं को लेकर धनबाद रेलवे स्टेशन पर मौजूद रेलकर्मियों में खासा उत्साह है। उनका कहना है कि रेलवे की तरफ से मिलने वाला पास ऑनलाइन हो जाने से कर्मचारियों को अब ऑफिस का चक्कर नहीं लगाना होगा। साथ ही उन्हें आरक्षण काउंटर पर जाकर टिकट बुक कराने के लिए लाइन में भी नहीं लगना होगा। अपने मोबाइल पर ई-पास डाउनलोड कर सकेंगे और ऑनलाइन टिकट भी बुक कर सकेंगे।