Google celebrates Indian Railways' history and heritage — Quartz India

साढ़े चार महीनों से बंद ट्रेन परिचालन की सुगबुगाहट तेज हो गई है। नियमित नहीं सही, लेकिन कुछ महत्वपूर्ण टे्रनों को स्पेशल बनाकर पटरी पर दौड़ाने की तैयारी चल रही है। इसके लिए भागलपुर से कुछ महत्वपूर्ण ट्रेनों की सूची मांगी है। सबकुछ ठीक रहा तो इसी सप्ताह कुछ गाडिय़ों के चलने के आसार हैं। इधर, रेलवे ने भी कैरेज एंड वैगन, स्टेशनों के कर्मियों और अधिकारियों को तैयार रहने को कहा है। गाडिय़ों का मेंटनेंस भी चल रहा है। रेलवे की कोशिश है कुछ एक्सप्रेस और सुपरफास्ट का परिचालन शुरू कराएं। दरअसल, 16 अगस्त तक रेल कार्यालय बंद है। 17 अगस्त से कार्यालय खुलेंगे।

इसमें देश कई जोन से कई गाडिय़ों को स्पेशल के रूप में चलाने पर निर्णय होने की संभावना है। इससे पहले जुलाई में ही भागलपुर से विक्रमशिला एक्सप्रेस, अगरतल्ला एक्सप्रेस, अंग एक्सप्रेस, एलटीटी एक्सप्रेस, सूरत-भागलपुर, गुवाहाटी-लोकमान्य तिलक टर्मिनल को प्राथमिकता दी गई थी। इन ट्रेनों को स्पेशल बनकर चलाने की तैयारी भी शुरू कर दी गई थी। इस बीच लॉकडाउन लागू होने के कारण परिचालन शुरू नहीं हो सका। ट्रेनों के चलने से भागलपुर के अलावा मुंगेर, लखीसराय, जमुई और बांका जिलों के यात्रियों को काफी सहूलियत होती। भागलपुर से दिल्ली, मुंबई, हावड़ा, बेंगलुरु, अगरतल्ला जाने वाले यात्रियों की संख्या ज्यादा है।

पार्सल एक्सप्रेस चलाने की जोर पकड़ी मांग

भागलपुर से हावड़ा और दूसरे शहरों के लिए पार्सल स्पेशल ट्रेन चलाने की मांग भी जोड़ पकड़ ली है। चैंबर ऑफ कॉमर्स ने कहा कि पार्सल स्पेशल के चलने से व्यापारियों को सामान आदान-प्रदान में काफी सहूलियत होगी। भागलपुर में कोलकाता से कपड़ा, सोना और अन्य सामानों की आपूर्ति होती थी। लॉकडाउन तीसरे चरण में यहां से पार्सल स्पेशल का परिचालन होता था। अभी पार्सल के नहीं चलने से यहां के व्यापारियों को ट्रांसपोर्ट पर निर्भर रहना पड़ रहा है। इस कारण व्यापारियों को परेशान होना पड़ रहा है। यहां के व्यापारी नवगछिया और दूसरे स्टेशनों पर चलने वाली गाडिय़ों से सामान मंगवा रहे हैं।