HRMS,HR,Human Resource Management System Software India - A.T.S.I.

बताते हैं कि अभी रेल कर्मचारियों को रिजर्वेशन कराने के लिए कार्मिक विभाग के पास सेक्शन से जारी पेपर वाले पास के सहारे पेपर टिकट लेना पड़ता है।

रेलवे बोर्ड की ओर से ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम लागू किया जा रहा है। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनाद कुमार ने एचआर मैनेजमेंट सिस्टम को लांच किया है। इस सिस्टम के लागू होते ही रेलवे अधिकारियों और कर्मचारियों को ई-पास व ई-पीटीओ का लाभ मिलेगा। ई-पास और ई-पीटीओ के जरिए रेलकर्मचारी आईआरसीटीसी की ओर से जारी ऑनलाइन रिजर्वेशन सिस्टम से घर बैठे अपने मोबाइल से टिकट बुक करा सकेंगे।

अब रेल कर्मचारी भी घर बैठे सकेंगे रिजर्वेशन

बताते हैं कि अभी रेल कर्मचारियों को रिजर्वेशन कराने के लिए कार्मिक विभाग के पास सेक्शन से जारी पेपर वाले पास के सहारे पेपर टिकट लेना पड़ता है। इसके लिए कर्मचारियों के साथ-साथ रिजर्वेशन के बुकिंग क्लर्क/सुपरवाइजर को भी माथापच्ची करनी पड़ती है। लेकिन ई-पास और ई-पीटीओ लागू होने से पूरी व्यवस्था पेपरलेस हो जाएगी।

रेल अधिकारी और कर्मचारी आमलोगों की तरह घर बैठे रेल टिकट का आरक्षण करा सकेंगे। आराम से मोबाइल पर आने वाले मैसेज के सहारे वे भी ट्रेनों पर यात्रा कर पाएंगे। पास सेक्शन में होने वाले कार्य सरल हो जाएंगे। साथ ही इससे पारदर्शित भी आएगी। सेंटर फॉर रेलवे इन्फारमेंशन सिस्टम (क्रिस) ने ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम को डिजाZइन किया है।

रेलवे में करीब 13 लाख अधिकारी और कर्मचारी ई-पास और ई-पीटीओ लागू होने से सहूलियत होगी। पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा करने वाले रेलकर्मियों को साल में मुफ्त यात्रा करने के लिए तीन सेट सुविझा पास मिलता है। पद के आधार पर लाल, हरा और मैटल पास का निर्धारण किया गया है। इसके अलावा रेलवे में ड्यूटी पास की भी व्यवस्था है।

वहीं रेलकर्मियों को सालाना चार पीटीओ भी मिलता है। पीआरओ मनोज कुमार सिंह ने बताया है कि पीटीओ से रेलकर्मी एक तिहाई किराए पर रेलवे में यात्रा कर पाते हैं। वहीं, पांच साल से कम सेवाकाल वाले कर्मी को एक सुविधा पास और चार पीटीओ की सुविधा दी गई है। ह्यूमन रिसोर्स मैनेजमेंट सिस्टम के लिए मंडल स्तर पर तैयारियां शुरु हो गई हैं।