Complete Track Renewal | PQRS Work | INDIAN RAILWAYS - YouTube

रेलवे ने खर्चों में कटौती के लिए किए जा रहे प्रयास के क्रम में ट्रेनों को चलाने के लिए जरूरी कामों को छोड़कर नए व अन्य कार्य पर रोक लगाने के आदेश दिए हैं। इसके अंतर्गत वे सभी निर्माण कार्य जो धीमी गति से किए जा रहे हैं या अभी तक शुरू नहीं हो पाए हैं उन्हें तत्काल रोक देने के लिए कहा गया है। रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में सभी जोन के जनरल मैनेजर के अलावा रेलवे के अन्य उपक्रमों को आदेश भेज दिए हैं।


रेलवे बोर्ड के डायरेक्टर/फाइनेंस (एक्स.) आशीष सिंह ने अपने आदेश में कहा है कि नए कार्य के अलावा कई बड़े कार्य चाहे वह वर्ष 2020-21 की पिंक बुक में ही क्यों न हों उन्हें रोक दिया जाए। सिर्फ ट्रेनों के संचालन के लिए जरूरी कार्यों को नहीं रोका जाए। इसके अलावा स्वीकृत किए गए कार्यों की एडिशनल मेंबर, एडिशनल मेंबर/वर्क और एडिशनल मेंबर/रेवन्यू के द्वारा समीक्षा की जाएगी। साथ ही वर्ष 2019-2020 के स्वीकृत काम में जो अभी शुरुआती दौर में हैं या शुरू नहीं हो सके हैं उन्हें रोक देने के लिए कहा गया है। इसके अलावा वर्ष 2018-19 और वर्ष 2019-20 के ऐसे बड़े कार्य जिनकी उपयोगिता बहुत अधिक नहीं है, उन्हें फिलहाल स्थगित कर दिया जाए। वहीं जोनल रेलवे के जीएम द्वारा एप्रूव किए गए कार्यों की समीक्षा किए जाने के साथ ही स्वीकृत किए गए कार्यों के लिए वित्त मंत्रालय से सहमति लेनी होगी।

24 मार्च के बाद सेवानिवृत्त कर्मचारियों को राहत
रेलवे बोर्ड ने 24 मार्च के बाद रिटायर हुए अफसरों/कर्मचारियों को सरकारी क्वार्टर को छोड़ने के लिए चार माह का समय दिया था। लेकिन अब उसे बढ़ाकर 31 अक्टूबर तक कर दिया गया है। इस बारे में रेलवे बोर्ड की डायरेक्टर स्थापना (जनरल) अनीता गौतम ने आदेश जारी कर दिया है।