Ujjain Patients with low symptoms of corona Treatment begin at ...

पूर्वोत्तर रेलवे मजदूर यूनियन (एनआरएमयू) ने डीआरएम से संरक्षा श्रेणी के रिक्त पदों को जल्द भरने की मांग उठाई है। मंडल प्रशासन के साथ बुधवार को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान कर्मचारी नेताओं ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए रैंडम टेस्टिंग की मांग भी उठाई। इस पर डीआरएम डॉ. मोनिका अग्निहोत्री ने लक्षण मिलने पर कर्मचारियों की फ्री जांच और इलाज का आश्वासन दिया। यह पहला मौका है जब पीएनएम मीटिंग में अफसरों ने अपने-अपने चैम्बर से विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग की है।

यह पहला मौका है जब पीएनएम मीटिंग में अफसरों ने अपने-अपने चैम्बर से विडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए मीटिंग की है।

डीआरएम मोनिका अग्निहोत्री ने एनईआरएमयू के पदाधिकारियों से कहा कि लखनऊ मंडल ने कोरोना काल और लॉकडाउन की अवधि में अहम भूमिका निभाई है। इसमें देश के हर कोने में खाद्यान्न एवं अन्य आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए विशेष मालगाड़ियों संचालन किया जा रहा है। श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को भी सर्वोच्च प्राथमिकता से संचालित कर मंडल ने रेकॉर्ड कायम किया है। मंडल में सभी विभागों के बीच नियमित पत्राचार के लिए डिजिटल रूप से काम किया जा रहा है।

इसमें वेतन, मस्टर रोल, निरीक्षण नोट, छुट्टी के आवेदन, पदोन्नति, सेवानिवृत्ति सहित सभी काम के लिए डिजिटल ई-कियॉस्क भी लगाए गए हैं। डीआरएम ने कहा कि कर्मचारियों के स्वास्थ्य को लेकर वेलनेस एश्योरेंस मेडिकल चेकअप के कैंप काफी कारगर साबित हुए हैं। वहीं, यूनियन के मंडल अध्यक्ष एसपी सिंह और मंडल मंत्री आरके वर्मा ने ट्रैक मेनटेनरों की पदोन्नति, इंजिनियरिंग विभाग में रिस्ट्रक्चरिंग, 10 प्रतिशत इंटक कोटा, वाणिज्य विभाग में पदोन्नति, रेलवे ट्रैक मेनटेनर्स की ट्रांसफर संबंधी समस्याओं को दूर करने की मांग उठाई।

मंडल मंत्री ने संरक्षा कोटि के कर्मचारियों की नियुक्ति, एमएसीपीएस पदोन्नति, बंचिग का लाभ, मंडल कार्यालय और कर्मचारी आवासों में पेयजल व्यवस्था, रेलवे कॉलोनियों में विद्युत व्यवस्था, वरीयता निर्धारण, बकाया भुगतान, चिकित्सा सुविधा, सभी कार्यालयों में महिला शौचालय की व्यवस्था किए जाने की भी मांग की।