Covid-19 pandemic: New, more infectious strain of coronavirus now ...

कोरोेना संक्रमित आने पर रेलवे कर्मचारी और उनके परिवारीजन अब कोविड केयर सेंटर रेलवे अस्पताल में सीधे भर्ती हो सकेंगे। इसके लिए रेलकर्मियों को अपने नोडल अफसरों को इसकी सूचना देनी होगी। इस 250 बेड वाले अस्पताल में भर्ती के लिए अब तक कोरोना संक्रमित रेलकर्मियों को सीएमओ से मंजूरी लेनी पड़ रही थी। स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर सीएमएस डॉ. विश्व मोहिनी सिन्हा ने नई व्यवस्था लागू कर दी है। इससे रेलकर्मियों का समय भी बचेगा।

चारबाग स्थित उत्तर रेलवे मंडल अस्पताल को एल-1 श्रेणी का कोविड केयर सेंटर बनाया गया है। यहां 250 में से 237 बेड एल-1 श्रेणी के है, जबकि शेष 13 बेड एल-2 श्रेणी के मरीजो के लिए बनाए गए हैं। अब तक अस्पताल में 121 कोरोना संक्रमित रोगी भर्ती हो चुके हैं। यहां तैनात डॉक्टरों व पैरामेडिकल स्टाफ  रोगियों की देखभाल कर रहे हैं। इसका निरीक्षण बुधवार को मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. विश्व मोहिनी सिन्हा ने भी किया।

उन्होंने खानपान की गुणवत्ता की जांच की और कोरोना संक्रमित रोगियों से फीडबैक भी लिया। रेलकर्मी इस अस्तपाल में भर्ती होने के लिए इसकी सूचना रेलवे के नोडल अफसर सीएमएस डॉ. विश्वमोहिनी सिन्हा और डॉ.संजय दीक्षित को देंगे। जबकि शेष रोगियों को सीएमओ की अनुमति से रेलवे अस्पताल भेजा जा सकेगा। डीआरएम संजय त्रिपाठी ने बताया कि रेलकर्मी को अपना चिकित्सा प्रमाणपत्र, उम्मीद कार्ड और आधार कार्ड को साथ लाना होगा।