NBT

राजस्थान के कोटा रेल मंडल से (kota railway) बड़ी खबर सामने आई है, जिसमें दो रेल हादसों (two rali accident in kota) टल गए हैं। यहां अवध एक्सप्रेस ट्रेन (awadh express train) ने एक ट्रॉली को टक्कर मार दी। वहीं मुंबई-जयपुर सुपरफास्ट (jaipur – mumbai superfast ) भी दुर्घटनाग्रस्त होने बच गई।

हाइलाइट्स

  • कोटा रेल मंडल से सामने आई दो ट्रेन हादसों की सूचना
  • पहली घटना रेल की पटरी टूटने से हुई
  • दूसरी घटना में अवध एक्सप्रेस ट्रेन ने एक ट्रॉली को टक्कर मार दी
  • रेलवे प्रशासन ने इंजीनियर को निलंबित कर मामले की जांच के दिए आदेश
  • दो घटना के बाद प्रशासन पूरी तरह हुआ अलर्ट

राजस्थान के कोटा में दो रेल हादसे होने से पहले ही टल गए हैं। पहली घटना रेल की पटरी टूटने की सामने आई। इस घटना में मुंबई-जयपुर सुपरफास्ट दुर्घटनाग्रस्त होने बच गई। दूसरी घटना में अवध एक्सप्रेस ट्रेन ने एक ट्रॉली को टक्कर मार दी। इस घटना में एक इंजीनियर सहित चार ट्रेकमैन ट्रेन चपेट में आने से बाल-बाल बच गए।

इंजीनियर को किया रेलवे प्रशासन ने निलंबित
प्रथम दृष्टया दोषी मानते हुए रेलवे प्रशासन ने इस मामले में इंजीनियर को निलंबित कर मामले की जांच के आदेश दिए हैं। मामले में खास बात यह है कि यह घटना ऐसे समय सामने आई है जब मुख्य संरक्षा अधिकारी (सीआरएस) कोटा में हैं और 180 की रफ्तार से ट्रेन का परिक्षण किया जा रहा है।

आ गई अचानक के मुंबई-गोरखपुर अवध एक्सप्रेस
दूसरी घटना सवाईमाधोपुर रंवाजनाडूंगर स्टेशन (rawanjna dungar railway station)के पास हुई। रेल पटरियों के निरीक्षण के लिए वरिष्ठ खंड अभियंता मुरारीलाल बैरवा धक्के से चलने वाली ट्रॉली में बैठकर रवाना हुए थे। धक्का लगाने के लिए चार ट्रेकमैन भी ट्रॉली के साथ थे। आमली से रवाना होकर मुरानी लाल रंवाजनाडूंगर पहुंचे थे। यहां शाम करीब 4.45 बजे होम सिंग्नल पर ट्रॉली जाकर रुक गई। यहां पर मुरारीलाल ट्रॉली से उतने की कोशिश कर रहे थे, तभी ट्रेनमैनों की ओर से ट्रॉली को खोलने की तैयारी की जा रही थी। इतने में हॉर्न बजाती तेजी से आती मुंबई-गोरखपुर अवध एक्सप्रेस को देखते ही मुरारीलाल और ट्रेकमैनों के होश उड़ गए। ट्रॉली की परवाह किए बिना मुरारीलाल और चारो ट्रेकमैन मौके से भाग खड़े हुए।

रोकने की कोशिश की बावजूद भी लगी जोरदार टक्कर
मिली जानकारी के अनुसार ट्रॉली को पटरी से नहीं हटता देख चालक ने भी ट्रेन के ब्रेक लगाने शुरु कर दिए, लेकिन करी 105 किलोमीटर की रफ्तार से दौड रही अवध ने रुकते-रुकते भी ट्रॉली को जोरदार टक्कर मार दी। इस टक्कर से ट्रॉली के परखच्चे उड़ गए।


हादसे के बाद मचा हड़कंप

घटना की जानकारी मिलने पर कोटा मंडल अधिकारियों और कंट्रोल रुम को दी। रेल अधिकारियों में हडकंप मच गया। सवाईमाधोपुर से सहायक मंडल अभियंता और इंद्रगढ़ से रेल पथ इंजीनियर आदि को मौके पर भेजा गया। इस घटना के बाद अवध एक्सप्रेस करीब आधा घंटा मौके पर खड़ी रही। इस घटना से इंजन और कोचों को कोई विशेष क्षति नहीं हुई। बाद में ट्रेन को मौके से आगे के लिए रवाना किया गया। गनिमत रही कि बड़ी दुर्घटना होने से टल गई। इधर, कोटा रेल मंडल के वरिष्ठ मंडल वाणिज्य प्रबंधक अजय पाल ने कहा कि घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है।ट्रेन को भी कोई नुकसान नहीं हुआ है। मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं।