This image has an empty alt attribute; its file name is da-increment-fb.png

इस प्रक्रिया की शुरुआत 31 जुलाई, 2020 से होगी। इसके लिए कर्मचारियों के बीच फॉर्म बांटे जाएंगे और एपीएआर का ऑनलाइन जनरेशन होगा। कर्मचारियों को अपना सेल्फ अप्रेजल रिपोर्टिंग मैनेजर को 31 अगस्त, 2020 तक सौंपना होगा।

अगले साल जून तक डीए में बढ़ोतरी पर रोक के बाद केंद्रीय कर्मचारियों को अब एक और झटका लगा है। अब कर्मचारियों को सैलरी में इन्क्रीमेंट यानी इजाफे के लिए मार्च, 2021 तक इंतजार करना होगा। दरअसल सरकार ने एन्युअल परफॉर्मेंस असेसमेंट रिपोर्ट की प्रक्रिया को पूरा करने की अवधि को अब 31 मार्च, 2021 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। इससे पहले सरकार ने इस प्रक्रिया को पूरा करने की अवधि को बढ़ाकर दिसंबर, 2020 कर दिया गया था। सरकार की ओर से जारी किए गए आदेश के मुताबिक ग्रुप ए, बी और सी के अधिकारियों के APAR की प्रक्रिया अब 31 मार्च, 2021 तक पूरी होगी।

इस प्रक्रिया की शुरुआत 31 जुलाई, 2020 से होगी। इसके लिए कर्मचारियों के बीच फॉर्म बांटे जाएंगे और एपीएआर का ऑनलाइन जनरेशन होगा। कर्मचारियों को अपना सेल्फ अप्रेजल रिपोर्टिंग मैनेजर को 31 अगस्त, 2020 तक सौंपना होगा। इसके बाद 30 सितंबर को यह रिपोर्ट रिपोर्टिंग मैनेजर की ओर से रिव्यू ऑफिसर को भेजी जाएगी। 15 नवंबर को रिव्यू ऑफिसर की ओर से APAR सेल को रिपोर्ट भेजी जाएगी। इसके बाद अन्य तमाम प्रक्रियाओं से गुजरते हुए इन्क्रीमेंट की पूरी प्रक्रिया 31 मार्च तक समाप्त होगी। इसके बाद कभी भी कर्मचारियों की सैलरी में इन्क्रीमेंट किया जा सकता है।

इससे पहले केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में इजाफे पर रोक लगा दी थी। 14 मार्च को ही सरकार की ओर से अपने कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में 4 फीसदी के इजाफे का ऐलान किया गया था। माना जा रहा था कि अप्रैल महीने की सैलरी तक कर्मचारियों के खाते में बढ़े हुए डीए की रकम जनवरी से मार्च तक के एरियर के साथ आ जाएगी।

हालांकि सरकार ने अप्रैल के आखिरी सप्ताह में इस इजाफे पर रोक लगा दी थी। यही नहीं जुलाई, 2020 और फिर जनवरी 2021 में डीए में प्रस्तावित इजाफे पर भी रोक लगा दी गई है। केंद्र सरकार के आदेश के बाद यूपी, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु समेत कई राज्यों की सरकारों ने डीए में इजाफे पर अगले साल तक के लिए रोक लगा दी है।

Source:- Jansatta