यहाँ अपना आधार कार्ड लिंक करें, और ...

मेक इन इंडिया को बढ़ावा देते हुए भारतीय रेल प्रशासन ने भी कर्मचारियों को जहां अपडेट करने के लिए लगातार नए नए फरमान जारी कर रहा है, वहीं कर्मचारियों की पहचान को भी डिजिटलाइज करने का आदेश दे दिया है। अब रेलकर्मियों के सर्विस रिकॉर्ड से लेकर वर्तमान कार्य-ड्यूटी तक की अपटूडेट डिजिटल आइडेंटिटी कार्ड में समाहित हो जाएगी।

यह जानकारी पूर्व रेलवे मालदा के एपीओ आरके पासवान ने पूर्व रेलवे डीजल शेड जमालपुर और ओपन लाइन प्रशासन को आदेश पत्र जारी कर दिया है। इस पत्र में सभी कर्मचारियों को आगामी 30 जून के तक फार्म भरने का आदेश है। स्थानीय रेल प्रशासन ने भी सभी कर्मचारियों को इसे जल्द जल्द भरने का आदेश दे दिया है।

आइडेंटिटी कार्ड से कर्मचारियों की पहचान होगी पुख्ता रेलकर्मियों को अब अपना मैनुअल आइडेंटिटी कार्ड की जगह डिजिटल आइडेंटिटी कार्ड रखना होगा। इसके लिए कर्मचारियों को नाम, पता, पद, डेट ऑफ बर्थ, विभाग, ब्लड ग्रुप, हाइट, सीयूजी मोबाइल नंबर, कट मार्क, आधार कार्ड नंबर और पीएफ/ इम्पलाई नंबर के साथ एक फोटो और हास्ताक्षर देना होगा।

हालांकि इस तरह की कार्ड पूर्व में शेड प्रशासन की ओर से बनाया जाता रहा है, लेकिन अब यह डिजिटल हो जाएगा। इस कार्ड में बार कोर्ड से कर्मचारी की पूरी जानकारी समाहित रहेगी। वहीं सर्विस डाटा और वर्तमान कार्य शैली आदि की भी जानकारी प्रशासनिक विभाग कार्यालय में अपटूडेट रहेगी।