7th pay commissiona

पीआईबी फैक्ट चेक ने ट्वीट कर बताया कि एक न्यूज रिपोर्ट में दावा किया गया है कि केंद्र सरकार 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रही है। ये एक फेक न्यूज है।

सोशल मीडिया पर केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने से जुड़ी एक खबर तेजी से वायरल हो रही है। इस खबर में दावा किया गया है कि सरकार 5 लाख कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी में है। इस दावे की सच्चाई खुद सरकार ने बता दी है। सरकारी फैक्ट चेकर PIB फैक्ट चेक के मुताबिक यह खबर पूरी तरह से निराधार है और इसका वास्तविकता से कोई संबंध नहीं।

PIB फैक्ट चेक ने ट्वीट कर बताया ‘एक न्यूज रिपोर्ट में दावा किया गया है कि केंद्र सरकार 5 लाख केंद्रीय कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रही है। ये एक फेक न्यूज है। सरकार ऐसे किसी प्रस्ताव पर विचार नहीं कर रही है। कृपया ऐसी फैलाई जा रही खबरों से सावधान रहें।

दरअसल यह अफवाह तब फैलना शुरू हुई जह एक अखबार की कटिंग को सोशल मीडिया पर शेयर किया जाने लगा। इस अखबार की कटिंग के शीर्षक में लिखा है ‘5 लाख केंद्रीय कर्मियों को बाहर करने की तैयारी।’ अखबार की कटिंग में दावा किया गया है कि वे कर्मचारी जिनकी उम्र 55 साल है या फिर जिन्होंने 30 साल की नौकरी पूरी कर ली है उन्हें नौकरी से निकाला जा सकता है। पैसों की कमी के चलते केंद्र कर्मचारियों को नौकरी से निकालने की तैयारी कर रही है।

बता दें कि कोरोना संकट के चलते केंद्र ने केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स के महंगाई भत्तों (DA) पर कैंची चलाई है। इस फैसले के बाद इस बात की चर्चा थी कि सरकार कर्मचारियों की शिफ्ट को 10 घंटे करने जा रही है। सरकार ने इस अफवाह करार देते हुए साफ किया था कि ऐसा कोई भी फैसलान हीं लिया गया है। सरकारी फैक्ट चेकर पीआईबी फैक्ट चेक ने एक ट्वीट के जरिए ही जानकारी दी थी।