Indian Railways to provide Content on Demand Service (CoD) on ...

रेल मंत्रालय ने कोरोना वायरस संक्रमण को देखते हुए पीआरएस सॉफ्टवेयर में बदलाव किया है। अब यात्रियों के लिए रिजर्वेशन फॉर्म में जाने का कारण लिखना होगा। किसके यहां जाना है और क्यों जाना है। सब कुछ आवेदन में स्पष्ट लिखा जाएगा। उसके बाद ही रिजर्वेशन को सॉफ्टवेयर स्वीकार करेगा।

रेल अधिकारियों का कहना है, कोरोना वायरस संक्रमण के चलते रेलवे ने पीआरएस सॉफ्टवेयर में बदलाव किया है। जिसके कारण अब यात्रियों को मोहल्ला, कॉलोनी, मकान नंबर, किस शहर में जाना है। कहां जाना है। किसके यहां जाना है। उस व्यक्ति का नाम, पता, मोबाइल नंबर भी लिखना है। सब कुछ आपको आवेदन फार्म भरना होगा। अगर आपने एक भी औपचारिकता पूरी नहीं की, तो आप का रिजर्वेशन सॉफ्टवेयर स्वीकार नहीं करेगा।

पूर्वोत्तर रेलवे इज्जतनगर रेल मंडल के पीआरओ राजेंद्र सिंह का कहना है कि पीआरएस सॉफ्टवेयर में बदलाव कर दिया गया है। अब रिजर्वेशन फॉर्म नए आ गए हैं। उनमें समस्त औपचारिकताओं को पूरा कराया जाता है। मांगी गई सभी सूचनाएं भरना आवश्यक होगा।

रिजर्वेशन के बाद भी यात्रा टाल रहे लोग कोरोना वायरस का डर इस कदर है कि रिजर्वेशन के बाद भी यात्री सफर करने से बच रहे। ज्यादा जरूरी नहीं है तो यात्राएं टाल दे रहे हैं। बरेली में रोजाना 100 रिजर्वेशन हो रहे हैं और इनमें बमुश्किल 70 फीसदी लोग सफर कर रहे हैं। यही हाल बाहर से आने वाली यात्रियों का है।