कोरोना वायरस लॉकडाउन (Coronavirus Lockdown in India) के कारण बंद पड़ी यात्री ट्रेनों (Passenger train Operations) की आवाजाही को 12 मई से शुरू किया जाएगा। भारतीय रेलवे (Indian Railways) शुरुआत में केवल 15 जगहों के लिए ही विशेष ट्रेनों का संचालन करेगी। केवल कंफर्म टिकट वाले यात्रियों को ही स्टेशन में प्रवेश मिलेगा। जानिए इससे जुड़े हर सवाल का जवाब…

हाइलाइट्स

  • 12 मई से शुरू होगा यात्री ट्रेनों की संचालन, नई दिल्ली से चलेंगी सभी ट्रेनें
  • शुरुआती दिनों में केवल विशेष ट्रेनों की संचालन किया जाएगा, यात्रियों के स्वास्थ्य को होगी व्यापक जांच
  • खांसी, सर्दी या बुखार से पीड़ित यात्री को नहीं मिलेगी यात्रा की अनुमति
  • कंफर्म टिकट वाले यात्रियों को ही मिलेगा स्टेशन में प्रवेश, सोमवार शाम से शुरू होगा रिजर्वेशन

नई दिल्ली:- कोरोना वायरस लॉकडाउन 3.0 के दौरान भारतीय रेलवे 12 मई से यात्री ट्रेनों का संचालन फिर से शुरू कर रहा है। इस दिन से नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से देश के विभिन्न हिस्सों के लिए 15 जोड़ी ट्रेनों का संचालन किया जाएगा। मंगलवार से यात्री ट्रेनों के चलने से यात्रा करने के इच्छुक लोगों के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। मसलन- किसको यात्रा करने में प्राथमिकता दी जाएगी, या टिकट कैसे मिलेगा आदि। जानिए इससे जुड़े सभी सवालों के जवाब:

क्या पूरे देश में ट्रेनों की आवाजाही शुरू हो जाएगी?
नहीं, भारतीय रेलवे कुछ चुनिंदा जगहों के लिए ही ट्रेनों का संचालन कर रही है। ये सभी ट्रेनें नई दिल्ली रेलवे स्टेशन से रवाना होंगी।

कितने डेस्टिनेशन के लिए ट्रेनें खुलेंगी?
15 डेस्टिनेशन के लिए। पहले चरण में नई दिल्ली से डिब्रूगढ़, अगरतला, हावड़ा, पटना, बिलासपुर, रांची, भुवनेश्वर, सिकंदराबाद, बेंगलुरु, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, मडगांव, मुंबई सेंट्रल, अहमदाबाद और जम्मू तवी के लिए विशेष ट्रेनों का संचालन होगा।

टिकट कहां से और कैसे कटेंगे?
आईआरसीटीसी की वेबसाइट से। इन ट्रेनों के लिए टिकट केवल IRCTC की वेबसाइट (https://www.irctc.co.in/) से बुक की जा सकेंगी।

क्या हर व्यक्ति को टिकट मिलेगा या कुछ शर्तें होंगी?
पहले चरण में रेलवे केवल जरूरी सेवाओं से जुड़े या जरूरी काम के लिए यात्रा करने वालों को ही टिकट जारी करेगा। जल्द ही इसके लिए विस्तृत दिशानिर्देश जारी होंगे।

अगर 12 तारीख की टिकट नहीं मिलती है तो?
अगर किसी यात्री को 12 मई की कंफर्म टिकट नहीं मिलती है तो वह आगे के दिनों के लिए रिजर्वेशन कर सकता है। ये ट्रेनें बोगियों की उपलब्धता के हिसाब से रोज चलेंगी।

क्या टिकट खिड़की से टिकट मिलेगा?
नहीं, रेलवे स्टेशनों पर टिकट बुकिंग काउंटर बंद रहेंगे और कोई काउंटर टिकट (प्लेटफॉर्म टिकट सहित) जारी नहीं किया जाएगा।

वेटिंग टिकट पर कर पाएंगे सफर?
नहीं, केवल वैध कन्फर्म टिकट वाले यात्रियों को रेलवे स्टेशनों में प्रवेश करने की अनुमति होगी। वेटिंग टिकट वाले यात्री ट्रेन में सफर नहीं कर पाएंगे।

क्या जनरल भी कोच उपलब्ध होंगे?
नहीं, 12 मई से शुरू हो रही ट्रेनों में केवल एसी कोच ही शामिल होंगे। जिनमें 1 एसी, 2 एसी और 3 एसी के कोच लगे रहेंगे। इन ट्रेनों में कोई भी स्लीपर या जनरल क्लास की बोगी नहीं होगी।

किराया कितना लगेगा?
इन स्पेशल ट्रेनों में राजधानी के बराबर किराया होगा। इसका सीधा असर सफर कर रहे यात्री की जेब पर पड़ेगा। लॉकडाउन के दौरान जिस भी यात्री को सफर करने की जरूरत होगी उसे ज्यादा पैसा खर्च करना होगा।

क्या कोचों की कोई सीमा तय है?
नहीं, भारतीय रेलवे कोरोना वायरस देखभाल केंद्रों के लिए 20,000 कोचों को आरक्षित करने के बाद और 300 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के संचालन के लिए बोगियों को रिजर्व करने के बाद उपलब्ध कोचों के आधार पर ट्रेनों में बोगियों को जोड़ेगा।

क्या ट्रेन में खाना मिलेगा?
नहीं, इन 30 ट्रेनों में पेंट्रीकार नहीं जुड़ा होगा। यानी यात्रियों को अपने खाने और पानी की व्यवस्था खुद करनी होगी। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए रेलवे ने यह व्यवस्था की है।

क्या श्रमिक स्पेशल ट्रेनें बंद हो जाएंगी?
नहीं, श्रमिक स्पेशल ट्रेनें वर्तमान व्यवस्था के अनुसार, संबंधित राज्यों के अनुरोध पर सामान्य रूप से चलती रहेंगी।