संक्रमित साथी के संपर्क से क्वारंटाइन में भर्ती रेल कर्मचारियों को अपनों के रवैए ने झकझोर डाला। रेल अस्पताल की अव्यवस्था से नाराज रेल कर्मियों को दूर से खाना मिल रहा है। बुधवार को खाना अस्त व्यस्त दिखा तो खाने का बहिष्कार कर दिया। इससे क्वारंटाइन बने रेस्ट हाउस में हंगामा मच गया। मीडिया के सक्रिय होने के बाद रेल अमला हरकत में आया। आनन-फानन में दूसरी बार खाना मंगाया गया। यहीं नहीं कर्मियों को रेस्ट हाउस में दवा व खाने की सुविधा नहीं मिल रहीं। मेडिकल स्टाफ है न सेनिटेशन की व्यवस्था। मास्क भी डाल दिए गए।








लोको पायलट समेत परिवार के पांच सदस्यों की पॉजिटिव रिपोर्ट के बाद मुरादाबाद, बरेली समेत तीस रेल कर्मचारी शक के दायरे में है। संक्रमण की आशंका में रेल प्रशासन ने मुरादाबाद में लॉबी में चालक के संपर्क में आए सभी तेरह कर्मियों को बुलाया गया।








सभी को रेलवे के रेस्ट हाउस में बने क्वारंटाइन में रखा गया है। मंगलवार को रेलवे के डा. एसके दीक्षित ने सभी तेरह रेल कर्मियों की प्राथमिक जांच की। सभी को क्वारंटाइन में रखा गया है। पर क्वारंटाइन हुए रेल कर्मचारी ही उपेक्षा का शिकार हो गए।