आम बजट पेश होने में अब मात्र 10 दिनों का समय बचा है। मोदी सरकार 10 दिनों के भीतर केंद्रीय कर्मचारियों को सौगात दे सकती है। सरकार महंगाई भत्ते और न्यूनतम वेतन में बढ़ोत्तरी के फैसले को मंजूरी दे सकती है। अगर ऐसा होता है तो कर्मचारियों की सैलरी में बढ़ोत्तरी होगी।








अगर मंहगाई भत्ते में चार फीसदी की बढ़ोत्तरी होती है तो कर्मचारियों की सैलरी में 700 रुपए से लेकर 10,000 रुपए तक की बढ़ोत्तरी हो सकती है।




वहीं अगर न्यूनतम वेतन को 18,000 रुपए से 26,000 रुपए किया जाता है तो कर्मचारियों के वेतन में भारी इजाफा होगा। हालांकि यह सरकार पर निर्भर करता है कि वह न्यूनतम वेतन में बढ़ोत्तरी की कर्मचारियों की लंबे समय से अटकी इस मांग को पूरा करती है या नहीं।

हालांकि ऐसे भी खबरें हैं कि डीए पर अगर बजट से पहले कोई फैसला नहीं लिया जाता तो फिर बजट के बाद मार्च में इसपर फैसला लिया जा सकता है।




डीए में 4 फीसदी की बढ़ोत्तरी इसलिए भी की जा सकती है क्योंकि नवंबर 2019 के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आंकड़े आ चुके हैं। यह बढ़कर 328 अंक पर पहुंच गया है। ऐसे में माना जा रहा है कि डीए में सरकार 4 फीसदी तक की बढ़ोत्तरी कर सकती है। मालूम हो कि कर्मचारियों के डीए में साल में दो बार (जनवरी और जुलाई) बढ़ोतरी की जाती है।