टिकट काउंटर और पार्सल काउंटरों पर तैनात कर्मचारी अब यात्रियों व उपभोक्ताओं के साथ किसी भी तरह की हेराफेरी नहीं कर पाएंगे। उत्तर रेलवे का दिल्ली मंडल अपने तमाम बड़े रेलवे स्टेशनों के अनारक्षित टिकट काउंटर और पार्सल काउंटरों के भीतरी हिस्से में सीसीटीबी कैमरा लगाने जा रहा है। यह कैमरे काउंटर के उस हिस्से में लगाए जाएगें जहां बुकिंग क्लर्क बैठते हैं। सीसीटीबी लगाने की जिम्मेदारी रेलवे ने टेलीकाम विभाग को दी है।








सूत्रों के अनुसार सीसीटीबी लगाने के काम को पूरा करने के लिए छह महीने का टारगेट दिया गया है। उत्तर रेलवे के अधिकारियों की माने तो सीसीटीबी किन जगहों पर लगाई जानी है, इसका स्थान तय कर लिया गया है। सूत्रों के अनुसार सीसीटीबी की खास बात यह है कि यह आईपी वेस्ट होंगे, जिससे रेलवे के आला अधिकारी अपने कम्प्यूटर पर या फिर मोबाइल पर भी लाइव देख सकेंगे।




अगर कोई कर्मचारी हेराफेरी करता नजर आता है तो उसके खिफाफ कार्रवाही की जा सकेगी। सूत्रों के अनुसार इस प्रोजेक्ट पर करीब 52 लाख रपए का खर्च बैठेगा। इसके लिए यह रकम अलॉट कर दी गई है। रेलवे के एक आला अधिकारी ने बताया कि अनारक्षित टिकट काउंटरों पर तैनात कर्मचारियों के बारे में हेराफेरी करने की शिकायतें आती रहती हैं। कर्मचारी रपए गिनने के बहाने बुकिंग क्लर्क नोट नीचे गिरा देता है और पैसेंजर को कहता है कि उसने रपए कम दिए हैं।




सामनों की बुकिंग के समय भी ऐसा ही होता है। यहां पर पैसा नीचे गिराने के बजाय उसे बरगलाया जाता है और ज्यादा पैसा वसूला जाता है। सीसीटीबी लगने के बाद इन चीजों पर रोक लगेगी।