टीटीई वर्ग में 45 साल के सभी कर्मियों का मेडिकल

55 वर्षीय कर्मियों के कामकाज की समीक्षा के फैसले के बाद रेल मंत्रालय अब टीटीई वर्ग में 45 साल के सभी कर्मियों का मेडिकल टेस्ट कराने जा रहा है। नियम पहली बार लागू होने से उक्त आयुवर्ग के कर्मियों में बेचैनी है। हालांकि, यह नियम पुराना है।








वर्तमान में ट्रेन के सहायक ड्राइवर, ड्राइवर एवं गार्ड को समय-समय पर अनिवार्य रूप से मेडिकल टेस्ट करना होता है। अनफिट होने पर उन्हें ट्रेन परिचालन के काम से हटा दिया जाता है। पूर्वोत्तर रेलवे ने 25 जुलाई को टीटीई वर्ग के कर्मियों का मेडिकल टेस्ट कराने के निर्देश जारी किए थे।.

निर्देश में कहा गया है कि भारतीय रेलवे चिकित्सा नियमावली 2000 के तहत 45 वर्षीय सभी कर्मचारियों को यह टेस्ट कराना होगा। प्रत्येक पांच साल में इन कर्मचारियों को मेडिकल टेस्ट करना होगा। यह कर्मचारी रेलवे के अस्पताल या निजी अस्पताल में मेडिकल टेस्ट करा सकेंगे। .




1. 20 फीसदी कर्मियों ने पंजीकरण कराया ऑल इंडिया रेलवे टिकट चेकिंग स्टाफ ऑर्गेनाइजेशन के संयुक्त सचिव शार्दुल पांडेय के मुताबिक, 20 फीसदी कर्मियों ने मेडिकल टेस्ट के लिए पंजीकरण करा लिया है। मेडिकल अनफिट आधार पर पहले कर्मचारियों को सरप्लस किया जा सकता है या कार्यालय के काम में लगाया जा सकता है।

दक्षिण-पूर्व रेलवे जोन के रिक्त पद दिवाली से पहले भरे जाएंगे। ग्रुप सी व डी के लिए रेलवे बोर्ड से यह आदेश जारी हुआ है। पत्र के अनुसार, वर्ष 2018-19 के रिक्त पद को दिवाली से पूर्व हर हाल में भरना है। दूसरी ओर, दक्षिण-पूर्व रेलवे समेत सभी जोन से रिक्तियों पर रिपोर्ट मांगी गई है। रेलवे की नई योजना से दक्षिण-पूर्व जोन को ग्रुप सी-डी में करीब पांच हजार नए कर्मचारियों के मिलने की उम्मीद है।




सूचना के अनुसार, रेलवे में पूर्व से जारी बहाली प्रक्रिया को जल्द खत्म कर रिटायर कर्मचारियों के रिक्त पद को भरने का लक्ष्य है। सुरक्षित ट्रेन परिचालन के तहत चक्रधरपुर मंडल में 324 रनिंगकर्मियों को (गार्ड एवं लोको पायलट) भरने की तैयारी शुरू है। मेंस कांग्रेस संयोजक शशि मिश्रा द्वारा संरक्षा श्रेणी की रिक्त पद का मामला उठाने पर वरिष्ठ मंडल अधिकारी ने यह जानकारी दी। रेलवे में संरक्षा श्रेणी के कर्मचारियों और लोको पायलट के सेवानिवृत्त होने के बाद अनुबंध पर बहाली की प्रक्रिया चक्रधरपुर मंडल में शुरू है। रेलवे सेवानिवृत्त कर्मचारियों एवं लोको पायलट के अनुभव का लाभ उठाना चाहता है।