चुनावी सौगातों में एक और इजाफा करते हुए सरकार ने अगले दो वर्षो के दौरान रेलवे में सवा दो लाख नए लोगों की भर्ती करने का फैसला किया है। इनमें पूर्व आरक्षण कोटे के यथावत रहते हुए 10 फीसद नौकरियां आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को मिलेंगी। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने इसका एलान करते हुए कहा कि ये नौकरियां उन डेढ़ लाख नौकरियों के अतिरिक्त होंगी, जिनकी भर्ती प्रक्रिया अप्रैल तक पूरी होने की संभावना है। गोयल 22 ट्रेनों के विस्तार के सिलसिले में रेल भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे।








उन्होंने कहा कि अभी रेलवे में करीब 12 लाख कर्मचारी हैं। अप्रैल तक नई भर्ती वाले डेढ़ लाख कर्मचारी इसमें जुड़ जाएंगे, जबकि रिटायर होने वालों की जगह अगले दो साल में 2.32 लाख कर्मचारियों की और भर्ती होगी। इस तरह तीन वर्षो में चार लाख नए कर्मी रेलवे में शामिल होंगे। पहली बार भर्ती प्रक्रिया की वीडियोग्राफी होगी और इसे सार्वजनिक भी किया जाएगा।




निजी क्षेत्र में भी बढ़ रही नौकरियां: गोयल ने निजी वेबसाइट ‘नौकरी डॉट कॉम’ द्वारा जारी सर्वे का हवाला देकर नौकरियों में कमी के विपक्षी प्रचार को भोथरा बनाने की कोशिश भी की। सर्वे के मुताबिक, 84 फीसद कंपनियों का मानना है कि जनवरी-जून 2019 के छह महीनों में देश में (पिछले छह माह की अपेक्षा) 20 फीसद अधिक भर्तियां होंगी। यह सर्वे 15 क्षेत्रों में कार्यरत निजी कंपनियों से प्राप्त आंकड़ों पर आधारित है।




22 ट्रेनों का मार्ग विस्तार: गोयल ने 22 ट्रेनों के मार्ग विस्तार का एलान किया। इनके रूट में कुछ नए स्टेशन शामिल किए गए हैं। फिरोजपुर-लुधियाना कैंट सतलज एक्सप्रेस को साहिबजादा अजीत सिंह नगर और न्यू मोरिंडा के नए स्टॉपेज के साथ चंडीगढ़ तक बढ़ाया गया है, जबकि ऊधमपुर-जम्मूतवी डेमू ट्रेन को सभी स्टेशनों पर स्टॉपेज के साथ पठानकोट तक विस्तार दिया गया है। बरेली-सिंगरौली/शक्तिनगर एक्सप्रेस को बरेली सिटी, इज्जतनगर, पीलीभीत और मझोला पकड़िया में स्टॉपेज के साथ टनकपुर तक, बांद्रा-पटना हमसफर एक्सप्रेस अब बेगूसराय और खगड़िया के अतिरिक्त स्टॉपेज समेत सहरसा तक चलेगी। बाड़मेर-हरिद्वार लिंक एक्सप्रेस भी रायवाला में स्टॉपेज के साथ ऋषिकेश तक चलेगी। वहीं, श्रीमाता वैष्णोदेवी कटरा-अहमदाबाद सवरेदय एक्सप्रेस का गांधीधाम तक मार्ग विस्तार किया गया है। इसके नए स्टॉपेज वीरमगाम, धारंगधरा और समाख्याली होंगे।