केंद्र और राज्य सरकार के लगभग एक करोड़ कर्मचारी व पेंशनरों के लिए अच्छी खबर है. इन कर्मचारियों को एक जनवरी 2019 से तीन फीससी महंगाई भत्ता मिलेगा. उपभोक्ता मूल्य सूचकांक के आधार पर की गई गणना के मुताबिक डीए तीन फीसदी के करीब बढ़ना तय हो गया है. एक जनवरी 2016 को सातवां वेतन आयोग लागू होने के बाद यह पहला अवसर है जब महंगाई भत्ता तीन फीसदी तक बढ़ने जा रहा है.








तीन फीसदी तक मिलेगा DA
डीए की गणना करने वाले जानकारों के अनुसार 2019 से महंगाई भत्ता तीन फीसदी या उससे अधिक रह सकता है. दिसम्बर माह के उपभोक्ता मूल्य सूचकांक में यदि छह फीसदी की वृद्धि होती है तो कर्मचारियों का 04 फीसदी तक डीए मिल सकता है. वहीं यदि उपभोक्ता मूल्य सूचकांक में 26 अंकों की कमी होती है तो डीए दो फीसदी देय होगा. लेकिन उपभोक्ता मूल्य सूचकांक में इतनी अधिक कमी होने की संभावना न के बराबर है. ऐसे में यह माना जा रहा है कि कर्मचारियों को डीए 3 फीसदी के करीब मिल सकता है.








क्या होता है DA या Dearness allowance
Dearness allowance को हिन्दी में महंगाई भत्ता कहा जाता है. ये ऐसा पैसा है, जो महंगाई को ध्यान में रखते हुए देश के सरकारी कर्मचारियों के रहने-खाने के स्तर को बेहतर बनाने के लिए दिया जाता है. पूरी दुनिया में सिर्फ भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश ही ऐसे देश हैं, जिनके सरकारी कर्मचारियों को ये भत्ता दिया जाता है. ये पैसा इसलिए दिया जाता है, ताकि महंगाई बढ़ने के बाद भी कर्मचारी के रहन-सहन के स्तर में पैसे की वजह से दिक्कत न हो. ये पैसा सरकारी कर्मचारियों, पब्लिक सेक्टर के कर्मचारियों और पेंशनधारकों को दिया जाता है.