पुरानी पेंशन बहाली का मुद्दा एक बार फिर से तेजी पकड़ने लगा है। अब इसको लेकर आठ और नौ जनवरी 2019 को राष्ट्रीय हड़ताल की घोषणा कर दी गई है। इस मुद्दे पर शुक्रवार को राज्य कर्मचारी महासंघ की आपातकालीन बैठक हुई। .








प्रदेश अध्यक्ष अजय सिंह की अध्यक्षता में संघ कार्यालय उदयगंज रोड में आयोजित बैठक में शामिल नेताओं ने कहा कि सरकार को पुरानी पेंशन बहाल करनी ही पड़ेगी। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि एनपीएस में बदलाव से काम नहीं चलेगा, पुरानी पेंशन हूबहू बहाल होनी चाहिए। उन्होंने बताया कि जो बदलाव प्रस्तावित हैं उसमें सरकार की हिस्सेदारी 10 फीसदी से बढ़ाकर 14 फीसदी शामिल हैं।








सरकार का यह कहना कि यदि सेवानिवृत्त के समय निकासी न की जाए तो अन्तिम वेतन का 50 प्रतिशत पेंशन दी जाएगी। अजय सिंह ने कहा कि सरकार की यह बात तर्कसंगत और व्यावहारिक नहीं है। पुरानी पेंशन ही एकमात्र विकल्प है। उन्होंने कर्मचारी नेताओं से आठ व नौ जनवरी 2019 को राष्ट्रीय हड़ताल सफल बनाने की अपील की। उन्होंने पुरानी पेंशन बहाली की बात कर रहे प्रदेश के अन्य कर्मचारी संगठनों से भी राष्ट्रीय हड़ताल में भागीदारी करने की अपील की है। .