रेल दुर्घटनाओं को रोकने में अहम भूमिका निभाने वाले रेलवे कर्मचारियों को अब बोर्ड स्तर पर होने वाले समारोह में…

रेल दुर्घटनाओं को रोकने में अहम भूमिका निभाने वाले रेलवे कर्मचारियों को अब बोर्ड स्तर पर होने वाले समारोह में सम्मानित किया जाएगा। इसके साथ ही उसे वीआईपी ट्रीटमेंट भी दिया जाएगा। वीआईपी ट्रीटमेंट के तहत फ़र्स्ट एसी पास और परिजनों काे साथ ले जाने की परमिशन भी मिलेगी।








रेलवे में तैनात ट्रैकमैन, गेटमैन सहित अन्य कर्मचारी संचालन मे अहम जिम्मेदारी निभाते हैं। रेलवे ट्रैक की सुरक्षा के साथ-साथ ट्रैक रिपेयर व मेंटेनेंस का काम भी टेक्निकल कर्मचारियों के कंधों पर होता है इसलिए रेलवे ऐसे कर्मचारियों की परेशानियों का समाधान करने के लिए संवाद कार्यक्रम का आयोजन करती रहती है। इसके तहत कर्मचारियों की परेशानियों का समाधान करते हुए राहत प्रदान की जाती है। अब ऐसे कर्मचारी जो रेल दुर्घटनाओं को रोकने में अहम जिम्मेदार निभाएंगे, उन कर्मचारियों का मनोबल बढ़ाने व अन्य कर्मचारियों को भी सुरक्षा के प्रति जागरूक करने के मकसद से मंडल व मुख्यालय स्तर के अलावा अब उन्हें बोर्ड स्तर पर आयोजित समारोह में भी सम्मानित किया जाएगा।




पहले मंडल व मुख्यालय स्तर पर होते थे सम्मानित . रेल दुर्घटनाओं को रोकने वाले रेलवे कर्मचारी को रेलवे प्रत्येक वर्ष सम्मानित करती है। पहले ऐसे कर्मचारियों को मंडल और मुख्यालय स्तर पर सम्मानित किया जाता था। लेकिन अब ऐसे कर्मचारियों को रेलवे बोर्ड स्तर पर भी सम्मानित करेगी।

मिलेगा वीआईपी ट्रीटमेंट| मौजूद समय में मुख्यालय स्तर पर आयोजित होने वाले सम्मान समारोह में रेलवे कर्मचारी को उसके पद के अनुसार ही पास और संबंधित श्रेणी में सफर करने की इजाजत थी। लेकिन सम्मान समारोह में शामिल होने के लिए रेलवे कर्मचारियों को फ़र्स्ट एसी का पास मिलेगा। इसके साथ ही कर्मचारी अपनी प|ी को भी साथ ले जा सकेंगे।




पास की वैधता होगी 15 दिन| रेलवे बोर्ड द्वारा जिस कर्मचारी को सम्मानित करने के लिए आमंत्रित किया जाएगा। उस कर्मचारी व उसकी प|ी या अन्य परिजन को राजधानी, दुरंतो और शताब्दी ट्रेनों में भी फ़र्स्ट एसी में यात्रा की अनुमति दी जाएगी। अधिकारी स्पेशल ड्यूटी चेक पास जारी करेंगे। पास की वैधता सिर्फ 15 दिनों की होगी।