NEW DELHI: The Union cabinet on Wednesday approved an additional 2 per cent hike in Dearness Allowance (DA) and Dearness Relief (DR) for central government employees. The hike will come into effect from July 1, 2018.

“The Union Cabinet, chaired by the Prime Minister Narendra Modi has approved to release an additional instalment of Dearness Allowance (DA) to Central Government employees and Dearness Relief (DR) to pensioners w.e.f. 01.07.2018 representing an increase of 2% over the existing rate of 7% of the Basic Pay/Pension, to compensate for price rise,” an official government release stated.







The increase is in accordance with the accepted formula, which is based on the recommendations of the 7th Central Pay Commission.

The hike is expected to benefit about 48.41 lakh central government employees and 62.03 lakh pensioners. The impact on the exchequer on account of both DA and DR would be Rs 6,112.20 crore per annum and Rs 4,074.80 crore in the financial year 2018-19 (8 months from July, 2018 to February, 2019)



नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्रिमंडल ने महंगाई भत्ते (डीए) और महंगाई राहत (डीआर) में दो प्रतिशत अतिरिक्त वृद्धि को मंजूरी दे दी है. इस कदम से केंद्र सरकार के 1.1 करोड़ कर्मचारियों और पेंशनभोगियों को लाभ मिलेगा. एक आधिकारिक बयान में यह जानकारी दी गई है. डीए और डीआर में वृद्धि से सरकारी खजाने पर सालाना 6,112.20 करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा




वित्त वर्ष 2018-19 के 8 महीनों (जुलाई, 2018 से फरवरी, 2019) के दौरान 4,074.80 करोड़ रुपये का बोझ पड़ेगा. यह वृद्धि एक जुलाई, 2018 से लागू होगी. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में आज हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला किया गया. बयान में कहा गया है कि केंद्रीय मंत्रिमंडल ने एक जुलाई, 2018 से केंद्रीय कर्मचारियों को महंगाई भत्ते की अतिरिक्त किस्त और पेंशनभोगियों को अतिरिक्त राहत जारी करने की मंजूरी दे दी है. यह मूल वेतन-पेंशन पर मौजूदा 7 प्रतिशत पर दो प्रतिशत की वृद्धि है.
टिप्पणियां

इस बढ़ोतरी से 48.41 लाख केंद्र सरकार के कर्मचारियों तथा 62.03 लाख पेंशनभोगियों को फायदा होगा. बयान में कहा गया है कि यह वृद्धि स्वीकृत फॉर्मूला पर आधारित है, जो सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों पर आधारित है.