रेलवे कर्मचारी गोरखपुर स्थित एकमात्र रेलवे प्रेस की बंदी के विरोध में उतर आए हैं। पूवरेत्तर रेलवे श्रमिक संघ (पीआरएसएस) ने गुरुवार को महाप्रबंधक कार्यालय के सामने धरना देकर अपना विरोध जताया। साथ ही रेलवे प्रशासन और रेल मंत्रलय पर उद्योग बंदी व निजीकरण की साजिश रचने का आरोप लगाया। इस दौरान ज्ञापन भी सौंपा।








संघ के सहायक महामंत्री बजरंगी दूबे ने कहा कि रेलवे के सभी कार्य को सुव्यवस्थित रूप से चलाने के लिए लगभग 200 प्रकार के सामान्य फार्म एवं रजिस्टर आदि तथा 100 प्रकार के मनी वैल्यू फार्म एवं रजिस्टर आदि की आवश्यकता पड़ती है। इसकी आपूर्ति रेलवे प्रेस ही करता है। गोरखपुर स्थित प्रेस रेलवे का पहला हंिदूी प्रेस है, जो वर्ष 1949 से संचालित है।




कार्यो की गुणवत्ता बढ़ाने तथा आधुनिक मशीनें लगाने की बजाए रेलवे इस महत्वपूर्ण प्रेस को बंद कर रहा है। उन्होंने कहा कि अगर रेलवे ने प्रेस बंद करने के फरमान को वापस नहीं लिया तो संघ बड़े आंदोलन को बाध्य होगा। कार्यकारी अध्यक्ष जेपी गुप्ता ने कहा कि रेलवे मंत्रलय और प्रशासन की साजिश को सफल नहीं होने दिया जाएगा। अध्यक्षता शाखा अध्यक्ष राम सागर मिश्र और संचालन जावेद अली ने किया। भरत प्रकाश चंद, आरएल दास, बाल्मीकि शर्मा, देवीलाल, शंभू नाथ तिवारी, कन्हैया आदि पदाधिकारी व बड़ी संख्या में रेलकर्मी मौजूद थे।




अब मोबाइल से बुक जनरल टिकट भी होंगे मान्य

पूवरेत्तर रेलवे (एनईआर) में अब आरक्षित की तरह ‘मोबाइल यूटीएस एप’ से बुक जनरल टिकट भी मान्य होगा। यात्रियों को एप से बुक टिकट की मान्यता के लिए काउंटर से प्रिंट नहीं लेना होगा। सेंटर फार रेलवे इंफार्मेशन सेंटर (क्रिस) की पहल पर रेलवे प्रशासन ने यह सुविधा प्रदान करने के लिए जोरशोर से तैयारी शुरू कर दी है। 1मोबाइल यूटीएस एप से टिकटों की बुकिंग स्टेशन परिसर से बाहर ही हो सकेगी। स्टेशन परिसर और ट्रेनों में टिकटों की बुकिंग पर सिस्टम में बैरिकेडिंग लगा रहेगा। फिलहाल रेलवे प्रशासन ने कुछ संस्थाओं के सहयोग से लखनऊ मंडल के गोरखपुर-गोंडा रेल मार्ग पर नए मोबाइल एप सिस्टम का परीक्षण पूरा कर लिया है। इस रेलमार्ग पर है। अब गोरखपुर-वाराणसी रेलमार्ग पर परीक्षण चल रहा है। परीक्षण पूरा होते ही इस नई व्यवस्था को लागू करने की तैयार शुरू हो जाएगी। 1किराये में पांच फीसद की छूट : जनरल टिकट के यात्रियों को अतिरिक्त सुविधा देने के उद्देश्य से रेलवे बोर्ड ने फरवरी की शुरूआत में ही पूवरेत्तर रेलवे में मोबाइल यूटीएस एप लांच कर दिया। एप का प्रचार-प्रसार भी किया गया। रुझान के लिए एप रिचार्ज के अलावा किराये में पांच फीसद की छूट भी दी गई।

>यूटीएस एप से बुक टिकट का अब नहीं लेना होगा

>स्टेशन परिसर के बाहर ही बुक हो सकेगा जनरल टिकट

>>पूवरेत्तर रेलवे में जल्द ही कार्य करना शुरू कर देगा सिस्टम