एक पेज का आयकर रिटर्न फार्म जारी,  Rs50 लाख तक की आय वाले भर सकेंगे यह फार्म, द कैश जमा की जानकारी मांगने वाला कालम हटाया








केन्द्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने आकलन वर्ष 2018-19 के लिए एक पेज का आयकर रिटर्न फार्म-1 (आईटीआर) सहज बृहस्पतिवार को जारी किया जिसका उपयोग 50 लाख रपए तक की वार्षिक आय वाले कर सकेंगे।आयकर विभाग ने कहा कि आकलन वर्ष 2018-19 के लिए एक पेज का सहज फार्म जारी किया गया है जो उसकी वेबसाइट पर उपलब्ध है। उसने कहा कि करीब तीन करोड़ करदाता इस एक पेज के सहज फार्म का उपयोग करेंगे। इसका उपयोग ऐसे करदाता कर सकते हैं जिनका वेतन, एक आवासीय संपत्ति/ब्याज सहित अन्य मद से 50 लाख रपए तक की वार्षिक आय है।




वेतन और आवसीय संपत्ति को तर्कसंगत बनाया गया है। फार्म-16 में दिये गए वेतन तथा आवासीय संपत्ति का उल्लेख करना होगा।इसके साथ ही आईटीआर फार्म दो को भी तर्कसंगत बनाया गया। ऐसे व्यक्ति या अविभाजित हिन्दू परिवार आईटीआर फार्म दो भर सकेंगे जिनकी आय बिजनेस या प्रोफेशन को छोड़कर होगी। ऐसे व्यक्ति या हिन्दु अविभाजित परिवार जिनकी आय व्यवसाय या प्रोफेशन से है, उन्हें आईटीआर फार्म तीन या आईटीआर फार्म चार भरना होगा।




प्रवासियों को रिफंड हासिल करने के लिए एक विदेशी बैंक खाते के बारे में बताना होगा ताकि उसके रिफंड भेजा जा सके। आकलन वर्ष 2017-18 में विशेष अवधि के दौरान नकद जमा कराने के संबंध में जानकारी मांगी गई थी, लेकिन आकलन वर्ष 2018-19 के फार्म में इस कालम को हटा दिया गया है।आईटीआर फार्म भरने के तौर-तरीकों में पिछले वर्ष की तुलना में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

सभी आईटीआर फार्म आनलाइन भरना होगा। सिर्फ उन्हीं को आईटीआर फार्म-1 सहज और आईटीआर फार्म-4 सुगम हार्ड कापी में भरकर जमा करने की अनुमति होगी जिनकी आयु वित्त वर्ष में 80 वर्ष हो गई है या ऐसे व्यक्ति या अविभाजित हिन्दू परिवार जिनकी वार्षिक आय पांच लाख रपए तक होगी और वे रिटर्न का दावा नहीं करेंगे।