रेल कर्मी परिवार सहित हवाई यात्र कर सकेंगे, केंद्र सरकार लीव ट्रैवल कंसेशन की सुविधा देगी

रेलवे के साढ़े तेरह लाख से अधिक कर्मचारियों और अधिकारियों के लिए अच्छी खबर है। सरकार अब रेल कर्मियों को भी लीव ट्रैवल कंसेशन (एलटीसी) की सुविधा देने जा रही है। नई व्यवस्था में रेल कर्मी अपने परिवार के साथ हवाई जहाज से देशभर में कहीं भी सैर सपाटा कर सकेंगे। वर्तमान में रेलवे में एलटीसी की सुविधा नहीं है। इसके एवज में उन्हें रेलवे का विशेषाधिकार पास दिया जाता है।








केंद्र सरकार की ओर से 27 मार्च को जारी अधिकृत सूचना के मुताबिक एलटीसी सुविधा में भारतीय रेल के कर्मचारियों और अधिकारियों को शामिल कर लिया गया है। सरकार ने सातवें वेतन आयोग की सिफारिशों को लागू करते हुए रेल कर्मियों को परिवार के साथ देश में कहीं भी हवाई यात्र करने की सुविधा दी है।




हालांकि ऐसे रेल कर्मियों को रेलवे की ओर से दिया जाने वाला विशेषाधिकार पास जमा करना होगा। इसके बाद ही वह सरकार की एलटीसी सुविधा का लाभ उठा सकेंगे।जो रेल कर्मी रेल मंत्रलय के किसी उपक्रम अथवा किसी दूसरे मंत्रलय अथवा राज्य में प्रतिनियुक्ति पर तैनात हैं उनको भी एलटीसी की सुविधा मिलेगी।

इसके अलावा पति-पत्नी में से कोई एक रेलवे में नौकरी कर रहा है तो उसे भी एलटीसी की सुविधा दी जाएगी। यदि पति-पत्नी दोनों रेलवे में नौकरी कर रहे हैं तो उन्हें एक ही एलटीसी की सुविधा मिलेगी। एलटीसी सुविधा लेने वाले रेल कर्मियों को विशेषाधिकार टिकट, ड्यूटी पास, स्कूल पास, मेडिकल के लिए स्पेशल पास आदि की सुविधा यथावत मिलती रहेगी।




सरकार ने एलटीसी सुविधा रेल कर्मियों के लिए वैकल्पिक रखी है। यह पूरी तरह से रेल कर्मी पर निर्भर करेगा कि वह एलटीसी अथवा विशेषाधिकार पास की सुविधा लेना चाहता है। यदि रेल कर्मी एक बार एलटीसी की सुविधा लेता है तो अगली बार वह पुन: रेलवे से विशेषाधिकार पास हासिल कर सकता है। लेकिन जिस वर्ष उसे एलटीसी सुविधा चाहिए उस वर्ष का विशेषाधिकार पास जमा करना होगा।