रेलवे यात्रियों की सुविधा के लिए रेलगाड़ियों में पब्लिक एड्रेस एंड पैसेंजर इंफार्मेशन सिस्टम (पीएपीआईएस) लगाने की तैयारी में है। इससे ट्रेन के रास्ते में बिना स्टेशन के अचानक रुक जाने पर यात्रियों को सीट पर बैठे-बैठे ही कारणों की जानकारी मिल जाएगी। अप्रैल से ये सिस्टम लगने शुरू हो जाएंगे।








सूत्रों के अनुसार, शुरुआत में राजधानी और शताब्दी जैसी प्रीमियम ट्रेनों में इस सुविधा को लगाया जाएगा। इस तकनीक के जरिए यात्रियों को ऑडियो और वीडियो दोनो माध्यमों से जानकारी उपलब्ध कराई जाएगी। हिन्दी और अंग्रेजी के अलावा जिस रूट की ट्रेन है उस रूट पर पड़ने वाले शहरों की स्थानीय भाषा में भी ये सूचनाएं देने पर विचार किया जा रहा है।
इस तकनीक के तहत ट्रेन के हर डिब्बे में स्क्रीन लगाई जाएंगी। ये पूरा सिस्टम जीपीएस के जरिए चलेगा। इसके चलते स्क्रीन पर यात्रा के दौरान प्रदर्शित होता रहेगा कि कौन सा स्टेशन आने वाला है और ट्रेन की गति क्या है। यदि ट्रेन में मौजूद यात्रियों को कोई आपात सूचना देनी है तो ट्रेन में मौजूद ड्राइवर या गार्ड इस सिस्टम के जरिए ट्रेन में किसी भी समय उद्घोषणा के जरिए सूचना दे सकते हैं।








आपातस्थिति में यात्री ट्रेन के गार्ड से बात कर सकेंगे :
उत्तर रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, पीएपीआईएस तकनीक के कई फायदे हैं। इसमें हम ऐसी सुविधा दे सकते हैं जिसमें किसी आपात स्थिति में अपने डिब्बे में लगे स्पीकर के जरिए यात्री ट्रेन में मौजूद गार्ड से बात कर सकते हैं। इसके जरिए यात्रियों को गाड़ी की स्थिति की सही सूचना भी पहुंचायी जा सकती है। साल के अंत तक कई प्रीमियम गाड़ियों में ये सिस्टम लगा दिए जाएंगे।

Source:- hindustan