शताब्दी और राजधानी ट्रेनों के कोच कंडक्टर का तीसरी बार बदला ड्रेस कोड, वेस्ट कोट के साथ कोट पर तीन सितारे लगेंगे

देश भर में चलने वाली राजधानी, शताब्दी और प्रीमियम ट्रेनों में कोच कंडक्टर अगले दस दिनों में बदले हुए ड्रेस कोड में नजर आएंगे। इनके कंधों पर सुनहरे रंग के तीन सितारे सजे होंगे और नीली वर्दी की जगह ये ग्रे रंग के कोट, वेस्ट कोव व पैंट में दिखाई देंगे। नई ड्रेस से वे दूसरी ट्रेनों के कोच कंडक्टरों से अलग नजर आएंगे। रेलवे बोर्ड ने सभी मंडलों के डीआरएम को ड्रेस कोड बदलने के पत्र जारी कर दिया है। साथ ही निर्देश दिए हैं कि इससे तत्काल अमल में लाया जाए।








रेलवे बोर्ड ने शताब्दी, राजधानी और प्रीमियम ट्रेनों में चलने वाले कोच कंडक्टरों की वर्दी तीसरी बार बदल दी है। इन प्रीमियम ट्रेनों के कोच कंडक्टरों को मेल व एक्सप्रेस के कोच कंडक्टरों से अलग वर्दी दी गई है। अभी शताब्दी में चलने वाले कोच कंडक्टर नीला कोट, नीली पैंट व सफेद शर्ट पहन कर चलते हैं। रेलवे बोर्ड ने इन वीआईपी ट्रेनों में चलने वाले कोच कंडक्टरों की वर्दी को और आर्कषक बनाने के लिए पहले इनको नीला कोट व पैंट पहनने के निर्देश दिए फिर इनकी बदल कर ग्रे कोट व पैंट कर दी गई। इसके बाद रेलवे बोर्ड ने ग्रे पैंट, कोट व वेस्ट कोट के साथ कोट पर तीन सितारे भी लगाने के निर्देश दिए हैं।




इससे ये दूसरी ट्रेनों के कोच कंडक्टरों से अलग नजर आएंगे। लखनऊ से दिल्ली व आनंदविहार के लिए शताब्दी व प्रीमियम ट्रेन हमसफर एक्सप्रेस का संचालन किया जाता है। अगले दस दिनों में इनके कोच कंडक्टर की वर्दी बदल जाएगी। अब ऐसे होगी वर्दी :रेलवे बोर्ड की ओर से जारी नए ड्रेस कोड के अनुसार अब शताब्दी, राजधानी व प्रीमियम ट्रेनों के कोच कंडक्टर को ग्रे रंग की पैंट, सफेद पूरी आस्तीन की शर्ट, ग्रे रंग का कोट व अंदर ग्रे रंग की वास्केट पहनने के लिए दी जाएगी।




कोट पर सुनहरे रंग के तीन सितारे लगे होंगे और कोट की जेब पर रेलवे का लोगो बना होगा। इसके अलावा शर्ट पर लाल टाई जिस पर इंडियन रेलवे लिखा होगा, वह पहननी होगी। रेलवे बोर्ड ने इस बदलाव को तत्काल लागू किए जाने के निर्देश भी सभी मंडलों के डीआरएम को दिए हैं।