रेलवे में संरक्षा और अन्य निरीक्षणों के मामलों में अब खानापूरी नहीं चलेगी। रेलकर्मियों को निरीक्षण की रिपोर्ट को ऑनलाइन अपलोड करना होगा। इसमें स्थल निरीक्षण से संबंधित फोटो और वीडियो के अलावा जांच रिपोर्ट होगी। इसके लिए रेलवे में एक ई-इंस्पेक्शन एप्लीकेशन तैयार किया है। यह एप मोबाइल और कंप्यूटर दोनों पर लोड हो सकता है।








एप के जरिये रेलवे के सभी स्तर के कर्मचारी और अधिकारी रिपोर्ट को देख सकेंगे और आगे की कार्रवाई सुनिश्चित करने के लिए अपने सुझाव व निर्देश भी दे सकेंगे। इस एप की शुरुआत दिल्ली रेल मंडल से इसी सप्ताह होगी। फिर धीरे-धीरे देश के सभी रेल मंडलों में लागू कर दिया जाएगा।रेल मंत्रालय ने डिजिटल इंडिया अभियान के तहत निरीक्षण गतिविधियों को डिजिटल और ऑनलाइन करने के लिए ई-इंस्पेक्शन एप्लीकेशन तैयार किया है। एप के जरिये रेलवे संरक्षा और यात्री सुविधाओं से संबंधित गतिविधियों पर फोकस करेगा।




इस एप से अब रेलवे के अधिकारी व कर्मचारी नियमित रूप से और विभिन्न अवधि में करने वाले निरीक्षण संबंधित गतिविधियों को अपलोड करेंगे। इसमें रेललाइन, रनिंग रूम, स्टेशन, ट्रेन और कोंिचंग (कोच) स्टॉक का निरीक्षण प्रमुख है। एप को संबंधित कर्मचारी, अधिकारी और अन्य संबंधित एजेंसी अपने मोबाइल और कंप्यूटर पर डाउनलोड करेंगे। निरीक्षण रिपोर्ट डाउन लोड करने के बाद शीर्ष अधिकारी उसे ऑनलाइन दे सकेंगे और तत्काल एसएमएम और ई-मेल के जरिए संबंधित कर्मचारी को सुझाव और निर्देश दे सकेंगे।




इससे रेलवे की कार्यपण्राली में तेजी आएगी और यात्री सुविधाएं सुनिश्चित करने में मदद मिलेगी।रेल मंत्रालय के अनुसार, ई-इंस्पेक्शन एप की शुरुआत दिल्ली रेल मंडल से इस सप्ताह की जाएगी। फिर देश के सभी रेल मंडलों में लागू किया जाएगा। इस एप के जरिए रियल टाइम ट्रैकिंग, डाटा एनॉलिसिस , ट्रेंड, चेकलिस्ट और पुराने सभी निरीक्षण रिपोर्ट की समीक्षा के आधार पर नए उपाय किए जा सकेंगे। सबसे महत्वपूर्ण है कि ऑनलाइन निरीक्षण गतिविधि को अपलोड करने से संरक्षा में कोताही नहीं बरती जा सकेगी।

rail inspection fb