रेलकर्मियों के लिए 31 जन. तक आधार आधारित उपस्थिति पण्राली जरूरी, बायोमीट्रिक मशीन के साथ सीसीटीवी कैमरे के प्रावधान का भी सुझाव








रेलवे देर से आने वाले अपने अधिकारियों पर नजर रखने के लिए सभी जोन एवं डिवीजन में अगले साल 31 जनवरी तक आधार आधारित बायोमीट्रिक उपस्थिति पण्राली लगाएगी। रेलवे बोर्ड ने तीन नवंबर को सभी जोन को इस सिलसिले में एक पत्र जारी किया है। उसने यह भी निर्देश दिया है कि बायोमीट्रिक मशीन के साथ सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं।




आदेश के मुताबिक बायोमीट्रिक उपस्थिति पण्राली सबसे पहले सभी डिवीजन, जोन, मेट्रो रेल कोलकाता, रेल कार्यशाला, कारखाना और उत्पादन इकाइयों में 30 नवंबर तक लगायी जाएगी। योजना का उद्देश्य काम पर देर से आने वाले या नहीं आने वालों पर नजर रखना है। 31 जनवरी 2018 तक रेल जोनों और डिवीजनों पर बायोमीट्रिक उपस्थिति पण्राली लग जाने के बाद इस समस्या का हल हो सकता है।

दूसरे चरण में लोक उपक्र मों सहित संबद्ध एवं अधीनस्थ कार्यालय में 31 जनवरी 2018 तक रेलवे के सभी कार्यालयों में इसे लागू किया जाएगा। फिलहाल यह पण्राली रेलवे बोर्ड और कुछ जोनल मुख्यालयों में लगी हुई है। बोर्ड के पत्र में यह भी कहा गया है कि बायोमेट्रिक पण्राली इस तरह से लगाई जाए कि डिवीजनल रेल प्रबंधक कार्यालय इनकी निगरानी कर सके।




रेल मंत्रलय ने अब देर से आने वाले अपने कर्मचारियों पर सख्ती बरतने जारी कर रही है। मंत्रलय ने अपने सभी जोन और डिवीजन में अगले साल 31 जनवरी तक आधार आधारित बायोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली लगाने के निर्देश दिए हैं। रेल बोर्ड ने 3 नवंबर को सभी जोन को इस सिलसिले में एक पत्र जारी किया है। आदेश के मुताबिक बायोमेट्रिक उपस्थिति प्रणाली सबसे पहले सभी डिवीजन, जोन, मेट्रो रेल कोलकाता, रेल कार्यशाला, फैक्ट्रीज और उत्पादन इकाइयों में 30 नवंबर तक लगाई जाएगी।

aadhar based rs st