बुलेट ट्रेन रफ्तार भी लाएगी, रोजगार भी, ये हैं 12 स्टेशन : अहमदाबाद, साबरमती, आणंद, वड़ोदरा, भरूच, सूरत, बिलिमोरा, वापी, भोइसर, विरार, ठाणो और मुंबई। इनमें मुंबई स्टेशन अंडरग्राउंड होगा। बुलेट ट्रेन का 7 किमी हिस्सा समुद्र के अंदर होगा








दिल खोलकर निभाई शिंजो ने दोस्ती, सौगात में दी बुलेट ट्रेन, दोनों प्रधानमंत्री ने की एक-दूसरे की तारीफ, कहा- परियोजना पूरी होने पर साथ करेंगे बुलेट ट्रेन में सफर

नरेंद्र मोदी की पांच बातें

द कोई भी देश आधे-अधूरे सपनों और संकल्पों से आगे नहीं बढ़ सकता।द अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना वर्षो का सपना था, जो आज जमीन पर उतरा है।द बुलेट ट्रेन तेज गति, तेज प्रगति, बेहतरीन तकनीक के चलते तेज परिणाम मिलेंगे।द यह आर्थिक विकास का पथ तय करेगा।द युवाओं को रोजगार मिलेगा और देश का विकास होगा।




शिंजो आबे की पांच बातें

द दो वर्ष पहले बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए जो पटकथा लिखी गई थी, आज उस पर अमल शुरू हो गया।द अन्य मसलों में सहयोग के लिए तैयार रहेंगे। द 1964 में जब जापान में हाई स्पीड ट्रेन की शुरुआत हुई तो पूरे जापान की आर्थिक स्थिति बेहतर हो गई।द भारत में बुलेट ट्रेन आर्थिक प्रगति का मार्ग प्रशस्त करेगा।द बुलेट ट्रेन ऐसी तकनीक पर आधारित है कि आज तक कोई दुर्घटना नहीं हुई।




आखिरकार सपनों तक सीमित बुलेट ट्रेन की परियोजना बृहस्पतिवार को धरातल पर आ गई। जापान और भारत की दोस्ती के अटूट रिश्ते की एक बड़ी सौगात अहमदाबाद-मुंबई बुलेट ट्रेन परियोजना देश को मिली है। यह परियोजना न केवल रफ्तार देगी, बल्कि रोजगार भी देगी। यह आर्थिक विकास की पटरी पर दौड़ने वाली बुलेट ट्रेन साबित होगी, जो एक युग के परिवर्तन की दिशा तय करेगी।भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने बृहस्पतिवार को यहां बुलेट ट्रेन परियोजना का विधिवत शिलान्यास किया। दोनों प्रधानमंत्रियों ने एक साथ रिमोट का बटन दबाकर परियोजना और वडोदरा में परीक्षण के लिए बनने वाले संस्थान की आधारशिला रखी।
द विनोद श्रीवास्तवसाबरमती (अहमदाबाद)। अहमदाबाद में बृहस्पतिवार को बटन दबाकर बुलेट ट्रेन परियोजना की शुरुआत करते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे।

bullet train fb