मोदी सरकार के पहले आम बजट में महिलाओं को अच्छी खबर मिल सकती है। वित्तमंत्री अरुण जेटली वर्ष 2014-15 के आम बजट में नौकरीपेशा महिलाओं को बड़ी राहत दे सकते हैं। सूत्रों की माने तो मोदी सरकार महिलाओं को आयकर में मिलने वाली छूट को बढ़ाने पर विचार कर रही है।

इसके तहत महिलाओं को पहले की तरह में पुरुषों की तुलना में ज्यादा आयकर छूट मिलने की व्यवस्था बहाल हो सकती है। पहले महिलाएं ज्यादा आयकर छूट पाती थीं लेकिन इस 2012-2013 के बजट में दोनों के लिए 2 लाख की कमाई तक आयकर छूट की व्यवस्था कर दी गई थी।

नौकरीपेशा महिलाओं को खास छूट देने के मूड में है। पुरुषों की तुलना में उनकी न्यूनतम आयकर छूट 3.25 से 3.50 लाख रुपये तक की जा सकती है। पुरुषों के लिए न्यूनतम आयकर छूट की लिमिट को दो लाख रुपये को बढ़ाकर तीन लाख भी किया जा सकता है।

सूत्रों के अनुसार मोदी सरकार देश के टैक्स रिजीम में ही बदलाव की योजना बना रही है। इसके लिए टैक्स स्लैब्स को फिर से तय किया जा सकता है। सरकार सीनियर सिटीजंस को आयकर देने में छूट की ऐज लिमिट 65 से घटाकर 60 साल करने के प्रस्ताव पर भी विचार कर रही है। इसके साथ ही सरकार डायरेक्ट टैक्स कोड बिल-2013 के कुछ प्रस्तावों पर भी विचार कर रही है। अति अमीरों के लिए भी नया टैक्स लाया जा सकता है।

सरकार की कोशिश है कि टैक्स में इन बदलावों के जरिए लोगों की हाथ में रहने वाली रकम को बढ़ाया जा सके। ऐसे में खर्च और सेविंग में इजाफा होगा।