Railway TTE caught in scam by agencies

टीटीई को धांधली में पकड़ा, डीआरएम आफिस में विजिलेंस की छापेमारी

मुरादाबाद : लंबे समय के बाद उत्तर रेलवे मुख्यालय की विजिलेंस टीम ने डीआरएम आफिस के कार्मिक विभाग में छापेमारी कर, एक टीटीई को निर्धारित से दो गुना वेतन देने का मामला पकड़ा। टीम जांच के लिए अपने साथ रिकार्ड भी ले गई है।








वाणिज्य और कार्मिक विभाग के कुछ कर्मियों की गठजोड़ से ही इस तरह का फर्जीवाड़ा चल रहा है। 1उत्तर रेलवे मुख्यालय की विजिलेंस टीम कार्मिक विभाग में पहुंची और टीटीई की नियुक्ति व पदोन्नति से संबंधित फाइलों की जांच करनी शुरू कर दी। इसमें एक मामला पकड़ में आ गया। जिसमें मुरादाबाद में तैनात टीटीई संदीप कुमार को कुछ माह पहले ही विभागीय परीक्षा पास करने पर सीएमआइ (मुख्य वाणिज्य निरीक्षक) बनाया गया था।




इससे उसका वेतनमान 2400 पे ग्रेड से बढ़कर 4200 पे ग्रेड हो गया। उसका वेतन दो गुना बढ़ गया था। बाद में वह बरेली में काम करने लगा।लेकिन दो माह काम करने के बाद संदीप ने रेल प्रशासन को पत्र देकर सीएमआइ के पद पर काम करने से इन्कार कर दिया। उसने मूल पद टीटीई पर ही काम करने की इच्छा जाहिर की। लिहाजा कार्मिक विभाग ने उसे कार्य मुक्त कर मुरादाबाद में टीटीई के पद पर तैनात कर दिया।




लेकिन कार्मिक विभाग ने उसे टीटीई का वेतन देने की बजाय सीएमआइ वाला वेतन देना ही जारी रखा। विजलेंस टीम फाइल आदि को लेकर दिल्ली लौट गई है। टीम मामले की जांच कर संलिप्त कर्मियों का नाम उजागर करने के प्रयास में जुट गई है।1प्रवर मंडल वाणिज्य प्रबंधक विवेक शर्मा ने बताया कि विजिलेंस की टीम टीटीई से संबंधित कार्मिक विभाग से फाइलें भी लेकर आई थी। पदोन्नति करने आदि का काम कार्मिक विभाग के द्वारा ही किया जाता है।

tte dooble pay st