एसी की जगह स्लीपर कोच देख हंगामा, रेलकर्मियों की अभद्रता की यात्री ने की शिकायत

वाराणसी से चलने वाली रांची इंटरसिटी में शनिवार को वातानुकूलित तृतीय श्रेणी की जगह स्लीपर कोच लगाने से यात्रियों ने हंगामा किया। चार यात्रियों ने काउंटर से टिकट निरस्त कराये। करीब 40 यात्री स्लीपर कोच से रांची गये।








कैंट स्टेशन पर दोपहर में करीब ढाई बजे ट्रेन के प्लेटफार्म पर पहुंचने पर सूचना प्रसारित हुई कि रांची इंटरसिटी के वातानुकूलित तृतीय श्रेणी में जिन यात्रियों ने टिकट बुक कराये थे, वे स्लीपर कोच से रांची जा सकते हैं या टिकट निरस्त करा सकते हैं। इस पर यात्रियों ने कांउटर के पास हंगामा किया। इस संबंध में एडीआरएम रवि प्रकाश चतुर्वेदी ने बताया कि रांची से जो रैक आया था, उसमें स्लीपर कोच ही लगकर आया था।.




आउटर पर खड़ी रही बेगमपुरा, नजदीकी स्टेशनों पर अन्य ट्रेनें : कैंट स्टेशन पर आने वाली ट्रेनों को आउटर पर खड़ा कर देने और नजदीकी स्टेशनों पर रोकने का क्रम शनिवार को भी जारी रहा। शनिवार को बीरापट्टी स्टेशन पर हरिद्वार हावड़ा सुपरफास्ट एक्सप्रेसस दोपहर एक बजे से खड़ी रही, यह ट्रेन करीब तीन बजे वहां से रवाना हुई। देहरादून जाने वाली दून एक्सप्रेस दोपहर डेढ़ बजे काशी स्टेशन पर खड़ी रही। शिवपुर में डिब्रूगढ़ एक्सप्रेस शाम 6.30 बजे से खड़ी रही तो बेगमपुरा एक घंटे से आउटर पर खड़ी रही। इससे यात्री परेशान नजर आए।.




वाराणसी। कैंट स्टेशन पर शनिवार को करीब डेढ़ घंटे की देर से पहुंची अमृतसर-हावड़ा पंजाब मेल में किसी कोच में पानी नहीं था। प्लेटफार्म नंबर पांच पर उतरकर यात्रियों ने हंगामा के बाद शिकायत की तो पानी भरने की सूचना प्रसारित की गई लेकिन ट्रेन में पानी नहीं भरा गया। 10 मिनट बाद ट्रेन बिना पानी के आगे रवाना हो गई। एक यात्री ने डीआरएम समेत अन्य अफसरों को ट्वीट कर शिकायत की। यात्रियों ने बताया कि प्रतापगढ़ से आगे बढ़ने पर कोच में जबकि बादशाहपुर आते-आते पूरी ट्रेन में पानी खत्म हो गया। बीच के स्टेशनों पर पानी नहीं भरा गया। ट्रेन शाम 6.35 बजे प्लेटफार्म नंबर पांच पर आई तो यात्रियों ने पानी न होने की शिकायत की।

वाराणसी। वाराणसी-अहमदबाद एक्सप्रेस साप्ताहिक ट्रेन से लखनऊ जा रहे एक यात्री विवेक ने रेलकर्मियों पर अभद्रता का आरोप लगाया है। मंत्रालय व डीआरएम को ट्वीट कर शिकायत में आरोप है कि प्लेटफार्म नंबर नौ पर टीटी व टीसी ने उसकी पत्नी के साथ अभद्रता की। उसका बैग उठाकर फेंक दिया। आपत्ति जताने पर उससे भी विवाद किया। .