शिकंजा: रेलवे भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह का पर्दाफाश

बिहार के मधुबनी का रंजीत यादव अपने साथी गुड्डू यादव, सुपौल के रंजीत यादव, गोपालगंज के जितेंद्र यादव के साथ मिलकर पूरा गिरोह महेंद्रू मोहल्ले से चला रहा था। चारों आरोपी फरार हैं। इनकी तलाश में एक टीम बिहार रवाना की गई है। .

गिरफ्तार लोगों से 11 मोबाइल फोन, 21 प्रवेश पत्र, एक फर्जी वोटर आईकार्ड, पांच खाली चेक, तीन ड्राइविंग लाइसेंस, 19 आधार कार्ड, छह एटीएम कार्ड, तीन पैनकार्ड, एक मोटरसाइकिल, एक स्कूटी और 56 हजार रुपये बरामद किए गए। .








रेलवे भर्ती की ग्रुप डी परीक्षा में नकल कराने वाले एक बड़े गिरोह का पर्दाफाश हुआ है। एसटीएफ ने शुक्रवार को गिरोह के यूपी सरगना समेत दस लोगों को कानपुर की अनजिप टेक्नोलॉजी और कर्मा इंस्टीट्यूट में ऑनलाइन परीक्षा देते पकड़ा। कुछ लोग रेल बाजार स्थित एक होटल से दबोचे गए। .

एडमिट कार्ड बरामद : एसटीएफ ने बताया कि यूपी, बिहार समेत कईराज्यों तक इनका जाल फैला हुआ था। इनके पास से मोबाइल फोन, फर्जी वोटर आइडी कार्ड, आधार कार्ड, रेलवे भर्ती के प्रवेश पत्र बरामद किए हैं। .




परीक्षा देते पकड़ा : शुक्रवार को गु्रप डी भर्ती के लिए परीक्षा हो रही थी। गड़बड़ी की सूचना मिलने पर एसटीएफ ने अनजिप टेक्नोलॉजी इंस्टीट्यूट में बने परीक्षा केंद्र पर छापा मारा। यहां से बिहार के सुपौल निवासी महेश कुमार यादव को ऑनलाइन परीक्षा देते दबोच लिया गया। गिरोह के यूपी सरगना राहुल कुमार को सेंटर से बाहर से पकड़ा गया। .




निशानदेही पर गिरफ्तारी : राहुल की निशानादेही पर रेलबाजार स्थित एक होटल से सॉल्वर प्रवेश यादव और सुनील कुमार शाह गिरफ्तार किए गए। इनसे पूछताछ के बाद गोविंदनगर के कर्मा इंस्टीट्यूट में परीक्षा दे रहे सुपौल के ललित कुमार यादव को पकड़ा गया। वह बिहार के गोपालगंज निवासी मुकेश कुमार सिंह की जगह परीक्षा दे रहा था।.