Locomotive ran for 13 Kms without Loco Pilot

बिना ड्राइवर के 13 किमी दौड़ा इंजन, बाइक से पीछा कर रोका, ड्राइवर के उतर जाने के बाद गलती से इंजन अपने आप चलने लगा, घटना से हैरान ड्राइवर यह नजारा देखता रह गया








कर्नाटक के कालबुर्गी जिले में वाडी स्टेशन से एक इलेक्ट्रिक इंजन करीब 13 किलोमीटर तक बिना लोको पायलट के दौड़ा और एक कर्मचारी ने बाइक से पीछा कर उसे रोका।कर्मचारी ने बिल्कुल फिल्मी अंदाज में इंजन पर सफलतापूर्वक काबू पा लिया और उसमें सवार होकर इंजन को रोक दिया। रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि बुधवार अपराह्न करीब तीन बजे वाडी जंक्शन पहुंची चेन्नई-मुंबई ट्रेन जब बोगियों में डीजल इंजन जोड़े जाने के लिए रुकी थी तभी यह घटना हुई।




वाडी से महाराष्ट्र के सोलापुर जाने के मार्ग में विद्युतीकरण नहीं होने के कारण ट्रेन की बोगियों में डीजल इंजन जोड़ा जाना था।अधिकारियों ने बताया कि मुंबई ट्रेन में नियमित रूप से डीजल इंजन जोड़ा जाता है जो वाडी से सोलापुर के लिए अपनी आगे की यात्रा पर रवाना होती है। लेकिन इसी बीच लोको पायलट के इससे उतर जाने के बाद गलती से इलेक्ट्रिक इंजन अपने आप चलने लगा।




घटना से स्तब्ध लोको पायलट यह नजारा देखता रह गया लेकिन वाडी स्टेशन के अधिकारियों ने अगले कुछ स्टेशनों को सिग्नल और पटरी निर्बाध रखने के लिए कहा।अधिकारियों ने बताया कि किसी अप्रिय घटना से बचने के लिए विपरित दिशा से आती दूसरी ट्रेनों को रोक दिया गया। जैसे ही इलेक्ट्रिक इंजन शुरू हुआ रेलवे के एक कर्मचारी ने मोटरसाइकिल पर उसका पीछा किया और किसी तरह उसे रोकने में सफल रहा। इंजन करीब 13 किलोमीटर तक दौड़ा और उसे नलवार के निकट रोका गया।

train without driver st