रेल अधिकारी का पति शताब्दी में बिना टिकट सफर करता काबू

फिरोजपुर: रेलवे में कार्यरत अपनी पत्नी के आधिकारिक रैंक का रौब दिखाकर अमृतसर से नई दिल्ली जाने वाली शताब्दी ट्रेन में बिना टिकट यात्रा का लुत्फ उठाने वाला व्यक्ति, जो स्वयं भी बड़े स्तर का अधिकारी है, को शताब्दी में बिना टिकट सफर काफी महंगा पड़ा और दिखाया गया रौब व सिफारिश खुद इसके लिए जी का जंजाल बन गए जिसने आखिरकार अपने घुटने टेकते हुए जुर्माना अदा करके अपनी जान छुड़ाई।








जानकारी मुताबिक अमृतसर से दिल्ली जाने वाली ट्रेन नं. 12014 शताब्दी एक्सप्रैस में एक अधिकारी, जिसकी पत्नी अंबाला मंडल में एक वरिष्ठ अधिकारी है, शताब्दी ट्रेन में सी.एम.आई. स्टाफ को यह कहकर बैठ गया कि वह अंबाला मंडल की सेफ्टी शाखा के वरिष्ठ अधिकारी कापति है। वह नई दिल्ली तक सफर करेगा। यह महाशय भी बड़े रौब से अनधिकृत तौर पर शताब्दी एक्सप्रैस के कोच नंबर सी-9 में सीट नंबर 4 पर जाकर बैठ गया जो बिना टिकट होते हुए भी बड़े मजे से सफर का लुत्फ उठा रहा था। थोड़ी देर उपरांत इस गाड़ी में तैनात टिकट चैकर निर्मलजीत सिंह टिकट चैक करते हुए आ गए।




उन्होंने इस कोच में बैठे हुए इस शख्स से टिकट मांगी लेकिन उसके पास तो टिकट थी नहीं। वह अपनी पत्नी के अधिकारी होने की दास्तां सुनाने लगा और अपने बारे में भी खूब बखान करने लगा। बताया जाता है कि इस ट्रेन में उस समय रेल मुख्यालय विजीलैंस स्टाफ भी सफर कर रहा था जिस वजह से यह काफी जोखिम भरा हो सकता था, लेकिन इसके बावजूद उसने गाड़ी में कई तरह की सिफारिशें लगाईं और कई जगह पर फोन की घंटियां खड़काईं और धौंस भी दिखाई लेकिन जब बात नहीं बनी तो जान जुर्माना देकर छूटी।




बताया जाता है कि इस कारगुजारी की वजह से रेलवे अधिकारी के पति को 2200 रुपए का जुर्माना ठोका गया। अपना नाम न छापने के एवज में रेलवे के एक बड़े अधिकारी ने बताया कि यह घटना 29 अप्रैल की है। इस बाबत कई शिकायतें रेल मंत्रालय के ट्विटर पर भी होने बारे कहा जा रहा है। उन्होंने बताया कि चूंकि यह मामला रेल मुख्यालय व रेल मंत्रालय तक पहुंच गया है, इस बाबत रेलवे की ओर से कार्रवाई जरूर की जाएगी।

Source:- Punjab Kesri