तकरीबन तीन साल पहले बनी बिना गार्ड के मालगाड़ी चलाने की योजना को अब धरातल पर उतारने की तैयारी शुरू हो गई है। मालगाड़ियों में गार्ड की जगह आधुनिक तकनीक वाला उपकरण ईओटीटी (इंड आफ ट्रेन टेलीमेट्री) सिस्टम लगाया जाएगा।  पहले चरण में लोडिंग वाले पांच महत्वपूर्ण जोन को 250 सेट ईओटीटी उपलब्ध कराने का आदेश रेलवे बोर्ड ने जारी किया है। उपकरण पांच जोनों के शेड में भेजे जाएंगे।

ईओटीटी मालगाड़ी के अंतिम छोर पर स्थित गार्ड यान (ब्रेक यान) में लगाया जाएगा। उपकरण एक कम्यूनिकेशन सिस्टम के तहत काम करेगा, जो मालगाड़ी के आगे इंजन से अंतिम छोर के डिब्बे तक जुड़ा रहेगा। पूरी मालगाड़ी की एक-एक पल की गतिविधि उपकरण में दर्ज होती रहेगी। मालगाड़ी के खुलने से पहले उपकरण ब्रेक पाइप व प्रेशर को चेक करने के बाद लोको पायलटों को ग्रीन सिग्नल देगा। इसके बाद उपकरण लगातार लोको पायलट और कंट्रोल के संपर्क में रहेगा।

आपात परिस्थितियों की भी देगा खबर मालगाड़ी के दो भाग में बंट जाने पर चालक और कंट्रोल को इस उपकरण से सूचना मिल जाएगी। यानी यह पूरी तरह गार्ड की भूमिका निभाएगा।

जून में आदेश जारी कर चुका रेलवे बोर्ड, विरोध टालने को गुपचुप तैयारियां नई व्यवस्था को लेकर रेलवे बोर्ड ने जून में ही आदेश जारी कर दिया है। डीजल लोकोमोटिव वर्क्स ( डीएलडब्ल्यू) को इसके लिए केंद्रीकृत खरीद एजेंसी बनाया गया है। हालांकि कर्मचारी यूनियनों के विरोध को टालने के लिए इसकी गुपचुप तैयारियां की जा रही हैं।

  • किस जोन को कितने ईओटीटी
  • पूर्व मध्य रेल – 50
  • दक्षिण पूर्व रेल – 50
  • पूर्व तटीय रेल – 50
  • दक्षिण मध्य रेल – 50
  • दक्षिण पूर्व मध्य रेल – 50