शनिवार काे रेलवे स्टेशन का प्लेटफार्म-1 दाे गुटाें के झगड़े की वजह से अखाड़ा बन गया। यहां सफाई का जिम्मा संभाल रही कंपनी के सुपरवाइजर और सफाई कर्मचारियों में झगड़ा हो गया। नतीजा- सफाई कर्मचारियों ने अपने दोस्तों को बुला लिया और बेल्ट निकालकर सुपरवाइजर विनोद शर्मा और वीरेंद्र पचौरी को पीटना शुरू कर दिया।

दाेनाें सुपरवाइजर जान बचाने के लिए प्लेटफार्म पर दौड़ने लगे। जब उन्हें बचने का रास्ता नहीं दिखा तो वे चीफ बुकिंग सुपरवाइजर वाइके मीना के ऑफिस में घुस गए। हमलावर सफाई कर्मचारी के यहां भी आ धमके। उन्हाेंने ऑफिस का कांच तोड़ दिया। हालांकि बाद में रेल सुरक्षा बल ने हमलावराें काे पकड़ लिया।

स्टेशन से जुड़े सूत्राें ने बताया कि सुपरवाइजर और सफाई कर्मचारियों के बीच कई दिन से झगड़ा चल रहा है। शुक्रवार को सफाई कर्मचारियों को वेतन मिला था। शनिवार दोपहर में सिकंदर और अमर सिंह ने अपने रिश्तेदार और दोस्तों को बुला लिया और फिर सुपरवाइजर से मारपीट शुरू कर दी। सुपरवाइजर अपनी जान बचाने के लिए प्लेटफार्म पर दौड़ने लगे। प्रत्यक्षदर्शियों का कहना है कि हंगामा मचाने वालों की संख्या ज्यादा थी। यदि सुरक्षा बल समय पर नहीं पहुंचता तो घटना बड़ी हो सकती थी।


आरपीएफ ने 6 लाेगों को किया गिरफ्तार
आरपीएफ थाना प्रभारी आनंद पांडेय ने बताया कि झगड़ा और गालीगलाैज करने के मामले में ठेके पर सफाई कार्य करने वाले सिकंदर वाल्मीकि पुत्र बांकेलाल निवासी थाटीपुर, अमरसिंह पुत्र कैलाश बाबू झांसी रोड, उनके रिश्तेदार राहुल पुत्र अमरसिंह ,आकाश पुत्र अमरसिंह, अनिल पुत्र अमर सिंह और शिवम पुत्र अमरसिंह सभी निवासी नाका चंद्रबदनी काे पकड़ा गया है। इनके खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।