दिल्ली, लखनऊ, प्रयागराज और बेंगलुरु जाने वाले यात्रियों के लिए राहत भरी खबर है। 12 सितंबर से नई स्पेशल ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाएगा। पूर्वोत्तर रेलवे ने भी अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं। टिकटों की बुकिंग के साथ ट्रेनों के प्लेटफार्म भी तय कर लिए गए हैं। प्लेटफार्म नंबर एक से भी ट्रेनें चलाई जाएंगी। एक नंबर का कैब-वे खुलेगा लेकिन वाहनों के प्रवेश की अनुमति नहीं होगी। कैब-वे से सिर्फ यात्री ही प्रवेश कर सकेंगे।

गोरखपुर से बनकर चलेंगी चौरीचौरा, हमसफर व यशवंतपुर एक्सप्रेस नई स्पेशल ट्रेनों में गोरखपुर से चौरीचौरा, हमसफर और गोरखपुर-यशवंतपुर एक्सप्रेस बनकर चलाई जाएंगी। कृषक और अवध-असम एक्सप्रेस गोरखपुर से होकर गुजरेंगी। गोरधाम, कुशीनगर, गोरखपुर-एलटीटी, बांद्रा और गोरखपुर-अहमदाबाद एक्सप्रेस एक जून से ही स्पेशल के रूप में चलाई जा रही हैं। नई ट्रेनों का संचालन शुरू हो जाने से लोगाें को राहत मिलेगी। बढ़ते संक्रमण के बीच दिल्ली और मुंबई ही नहीं गोरखपुर से लखनऊ, वाराणसी और प्रयागराज की राह भी आसान हो जाएगी। मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पंकज कुमार सिंह के अनुसार फर्स्ट क्लास और वीआइपी गेट की तरह कैब-वे में भी यात्रियों की थर्मल स्कैनिंग की जाएगी। स्टेशन डायरेक्टर आशुतोष गुप्ता के अनुसार संक्रमण से बचाव को लेकर सावधानियां बरती जा रही हैं। प्लेटफार्म नंबर एक से पांच तक ट्रेनों का संचालन किया जाएगा। तीनों फुट ओवरब्रिज प्लेटफार्म नंबर आठ तक खोल दिए गए हैं। प्लेटफार्म नंबर नौ को पूरी तरह से बंद रखा गया है।

सफर में बरती जाने वाली सावधानियां

कंफर्म आरक्षित टिकट पर ही स्टेशन पर प्रवेश की अनुमति होगी।

यात्रियों के मोबाइल में आरोग्य सेतु एप डाडन लोड करना आवश्यक होगा।

प्रत्येक यात्रियों के लिए फेसमास्क अनिवार्य होगा।

ट्रेन छूटने से एक घंटे पहले पहुंचना होगा स्टेशन।

कोविड-19 का लक्षण पाए जाने पर नहीं दी जाएगी यात्रा की अनुमति।

कोविड-19 के लक्षण वाले यात्रियों का टिकट के साथ वापस हो जाएगा पूरा किराया।

वातानुकूलित कोचों में परदे नहीं लगाए जाएंग। रास्ते में बेडरोल भी नहीं मिलेंगे।

ट्रेनों में पैक्ड खाद्य सामग्री मिलेगी। स्टेशनों पर खानपान के स्टाल खोले जाएंगे।

टिकटों की बुकिंग शुरू होते ही फुल हो गई यशवंतपुर एक्सप्रेस टिकटों की बुकिंग शुरू होते ही गोरखपुर-यशवंतपुर स्पेशल एक्सप्रेस फुल हो गई है। इस ट्रेन में 12 सितंबर को स्लीपर क्लास में 366 वेटिंग, एसी थर्ड में 59 और जनरल (टूएस) में 244 वेटिंग है। इसके अलावा चौरीचौरा एक्सप्रेस में स्लीपर क्लास तथा हमसफर का एसी थर्ड भी फुल हो चुका है। दोनों श्रेणियों में आरएसी टिकट मिल रहा है। हालांकि, लखनऊ जाने वाली कृषक एक्सप्रेस में बर्थें खाली थीं।