Coronavirus lockdown: For post-April 14 plan, Railways to ask ...

पश्चिम मध्य रेलवे के मुख्यालय जबलपुर में कोरोना के एक के बाद एक मामले सामने आने के बाद रेल कर्मचारियों में दहशत का माहौल है। ऐसे में भयभीत रेलकर्मियों ने रेल प्रशासन से मौके की नजाकत को देखते हुए कोरोना के लॉकडाउन के पहले चरण की तरह सीमित स्टाफ को ड्यूटी पर बुलाने की माँग की है। वहीं हालात पर नजर रखते हुए रेल प्रशासन अपने स्तर पर निर्णय लेने का मन बना रहा है, जिसमें काम की स्थिति के अनुसार सिर्फ जरूरी काम वाले अधिकारियों व कर्मचारियों को काम पर आने की अनुमति दी जाएगी, बाकी गैर जरूरी स्टाफ को कोरोना से बचाव के लिए घर पर ही रहने की व्यवस्था की जा सकती है।

रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार पिछले दिनों में डीआरएम ऑफिस परिसर स्थित टीआरडी में एक कर्मी कोरोना संक्रमित होने के बाद अब जीआरपी थाना प्रभारी भी कोरोना से पीड़ित हो गए हैं। रविवार को कटनी के एक टिकट चेकिंग स्टाफ के संक्रमित होने से रेल कर्मचारियों में और घबराहट बढ़ गई है। बताया जा रहा है कि आज रेलवे स्टाफ अपने विभाग प्रमुखों के जरिए रेल प्रशासन तक कोरोना की महामारी बढ़ने की वजह से सेफ साइड लेने की गुहार लगाने की तैयारी कर रहे हैं, जिसमें सभी विभागों में ऑल्टरनेटिव डेज की ड्यूटी की माँग की जा सकती है। साथ ही जरूरत पड़ने पर स्टाफ को कभी भी बुलाया जा सकता है। 

ड्यूटी ज्वाॅइन करने से पहले करानी होगी जाँच 
रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए रेल प्रशासन अब नया आदेश जारी करने वाला है, जिसमें अवकाश पर गए रेलकर्मियों को ड्यूटी पर लौटने पर एक दिन के लिए रेल अस्पताल में भर्ती होना पड़ेगा, जहाँ जाँच की जाएगी। जाँच में सही पाए जाने पर फिटनेस सर्टिफिकेट दिया जाए, जिसे रेलकर्मी को अपने विभाग प्रमुख के समक्ष पेश करना होगा। जिसके बाद ही वो ड्यूटी ज्वाइन कर सकेगा।पी-3 

रेलवे बोर्ड ने अपने स्तर पर निर्णय लेने के आदेश जारी किए हैं। जबलपुर मंडल के हालात का जायजा लेने के बाद जल्द निर्णय लिया जाएगा। जिसमें जरूरी सेवाओं के स्टाफ को काम पर बुलाने और बाकी स्टाफ को घर पर रहने की व्यवस्था पर विचार किया जाएगा। ताकि काम सही तरीके से चलता रहे। 
– संजय विश्वास, डीआरएम जबलपुर मंडल 

Source:- Bhaskar