रेलवे में छंटनी नहीं होगी लेकिन कर्मचारियों के तबादले अवश्य होंगे

| July 8, 2020
Govt approves restructuring of Railway Board, unification of services

Indian Railways/7th pay commission News : कोरोनावायरस महामारी (Coronavirus pandemic) की रोकथाम के लिए देश में लागू लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से कमाई में आयी कमी का असर भारतीय रेलवे (Indian Railways) के कर्मचारियों पर नहीं पड़ेगा और न ही उनकी छंटनी की जाएगी. यह बात दीगर है कि उनके जॉब प्रोफाइल (Job profile) को भले ही बदल दिया जा सकता है. रेलवे बोर्ड (Railways board) ने अपने महाप्रबंधकों (General managers) को लिखी चिट्ठी में इस बात का भरोसा दिया है. हालांकि, उन्होंने दो जुलाई को भेजी एक अन्य चिट्ठी में रेलवे की रिक्तियों में 50 फीसदी कटौती करने और नये पदों के सृजन पर रोक लगाने का निर्देश दिया था.

मनी कंट्रोल में प्रकाशित खबर के अनुसार, रेलवे बोर्ड ने कहा कि रेलवे रोजगार का आकार घटाने की बजाए उसका आकार बनाए रखने पर ध्यान केंद्रित करेगा. इसका मतलब यह कि रेलवे में नौकरियों में कटौती और छंटनी नहीं होगी, बल्कि इसके स्थान पर लोगों को सही स्थान पर नियुक्ति किया जाएगा या फिर उनका तबादला कर दिया जाएगा.

अधिकारीयों को हिदायत दी गयी हैं रेलवे कर्मचारियों को ट्रेनिंग देकर अलग अलग कामों के लिए दक्ष बनाया जाये। रेलवे बोर्ड के कहा कि भारतीय रेलवे संख्या में कटौती नहीं कर रही है, बल्कि सही व्यक्ति को सही काम दे रही है. उन्होंने कहा कि भारतीय रेलवे में नयी तकनीक के आने से कुछ लोगों का काम बदल सकता है. ऐसे में उन्हें नये काम की ट्रेनिंग दी जाएगी, लेकिन किसी की नौकरी नहीं जाएगी.

रेलवे बोर्ड ने यह भी भरोसा दिया कि हम सही व्यक्ति को सही काम देंगे, नौकेरी से नहीं निकालेंगे. इसमें किसी प्रकार का कोई संदेह नहीं है कि भारतीय रेलवे देश का सबसे बड़ा नौकरी देने वाला संस्थान बना रहेगा. हम अकुशलता वाली नौकरियों से कुशलता वाली नौकरियों की ओर कदम बढ़ा रहे हैं.

रेलवे बोर्ड ने अपने आदेश का बचाव करते हुए कहा है कि इस आदेश का मतलब ऐसे पदों पर नियुक्ति करने से बचना है, जहां कोई काम नहीं है. ऐसा करके भारतीय रेलवे उचित जगहों पर नयी रिक्तियां बना सकता है. उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि जिन पदों पर नियुक्ति की प्रक्रिया जारी है, वह जारी रहेगी और नियुक्तियां भी होंगी. जिन नियुक्तियों के संबंध में विज्ञापन या अधिसूचना जारी हो चुकी है, उनमें भी कोई बदलाव नहीं होगा.

गौरतलब है कि भारतीय रेलवे में फिलहाल 12,18,335 कर्मचारी कार्यरत हैं और वह अपनी कमाई का 65 फीसदी हिस्सा वेतन और पेंशन पर खर्च करता है. 2018 से रेलवे ने सेफ्टी कटेगरी में 72,274 और नान-सेफ्टी कटेगरी में 68,366 रिक्तियों का ऐलान किया है. इस तरह रेलवे में इस समय कुल 1,40,640 रिक्तियां हैं.

Tags: , , , , , , , , , , , , , ,

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.