लॉकडाउन में जब थम गई थी दुनिया, भारतीय रेलवे ने पूरे कर डाले कई साल से लंबित 200 प्रोजेक्ट

| June 29, 2020
It was 1974 total strike of Railways that first showed India what ...

लॉकडाउन (Lockdown) के दौरान तमाम उद्योगों के साथ ही ट्रेनों के पहिये भी थम गए थे. भारतीय रेलवे (Indian Railway) ने इस दौरान मिले खाली समय में ट्रेनों की सुरक्षा (Safety) व रफ्तार (Speed) बढ़ाने और रेल लाइनों के दोहरीकरण (Doubling Lines) से जुड़ी कई परियोजनाओं को पूरा कर डाला.

नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस के फैलने की रफ्तार पर ब्रेक लगाने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन (Lockdown) के कारण करीब-करीब पूरी दुनिया घरों में कैद हो गई थी. हर तरह का कामकाज बंद कर दिया गया था. भारतीय रेलवे (Indian Railways) ने इसी दौरान बड़ा काम करके दिखा दिया. दरअसल, लॉकडाउन के दौरान तमाम उद्योगों, बाजारों और कारोबारी गतिविधियों की ही तरह ट्रेनों के पहिए भी थम गए थे. इस दौरान भारतीय रेलवे ने ‘आपदा को अवसर’ में तब्‍दील करने में कोई कसर नहीं छोड़ी. रेलवे ने खाली समय का बेहतर इस्‍तेमाल करते हुए कई साल से लंबित 200 से ज्‍यादा परियोजनाओं को पूरा कर डाला.

ट्रेनों की सुरक्षा और रफ्तार से जुड़े थे प्रोजेक्‍ट
लॉकडाउन के दौरान पूरी की गई परियोजनाओं में ट्रेनों की सुरक्षा (Safety) बेहतर करने, रफ्तार (Speed) बढ़ाने और रेल लाइनों के दोहरीकरण (Doubling Lines) शामिल था. लॉकडाउन के दौरान सामान्‍य यात्री ट्रेनें (Passenger Trains) बंद थी. भारतीय रेलवे ने इसे जीवन में एक बार मिलने वाले अवसर की तरह इस्‍तेमाल किया और मेंटनेंस (Maintenance) से जुड़े जरूरी काम लॉकडाउन के समय में पूरे कर डाले. रेलवे ने पुराने पुलों की मरम्‍मत, इलेक्ट्रिक लाइन डालना और यार्ड री-मॉडलिंग जैसी सालों से लंबित कई परियोजनाओं को पूरा कर लिया.

पुराने पुलों की मरम्‍मत की, ROB भी बनाए भारतीय रेलवे को वर्षों से लंबित कई प्रोजेक्‍ट के कारण अकसर मुश्किलों का सामना करना पड़ता था. इस दौरान 82 पुराने रेल पुलों की मरम्मत की गई. वहीं, कम ऊंचाई वाले 48 रोड अंडर ब्रिज (ROB) या सब-वे और 16 फुट ओवरब्रिज (FOB) का निर्माण कार्य पूरा किया गया. इसके अलावा 14 पुराने फुट ओवरब्रिज हटाए गए, 7 रोड ओवर ब्रिज और 5 यार्ड (Yards) को नया रूप दिया गया. इन सबमें एक परियोजना रेल पटरी के दोहरीकरण और विद्युतीकरण (Electrification) से जुड़ी है. इनके अलावा 26 अन्य परियोजनाओं को भी पूरा किया गया.

कुछ जगह सिग्‍नल सिस्‍टम को किया अपग्रेड
रेलवे ने कुछ जगहों पर सिग्‍नल सिस्‍टम (Signal System) को अपग्रेड किया. यही नहीं, इंडियन रेलवे और भेल (BHEL) के पायलट प्रोजेट का परीक्षण भी किया गया. इस प्रोजेक्‍ट के तहत ट्रेन सेवाओं को सौर ऊर्जा (Solar Energy) के जरिये चलाने की योजना है. रेलवे ओवरहेड लाइन (OHL) में सीधे 25 केवी इलेक्ट्रिसिटी फीड करने के लिए शुरू की जा रही 1.7 मेगावाट का ये प्रोजेक्‍ट बीना में है. बता दें कि कोरोना संकट (Corona Crisis) के दौरान सभी आवश्यक वस्तुओं की आपूर्तिके लिए पार्सल ट्रेन और मालगाड़ियां चलाने के अलावा रेलवे ने बाद में श्रमिक ट्रेनें भी चलाईं.

Category: Uncategorized

About the Author ()

Comments are closed.