केंद्रीय कर्मचारियों को बच्चों की पढ़ाई के लिए मिलता है चिल्ड्रन एजुकेशन अलाउंस, जानिए- क्या है नियम

| May 26, 2020

यदि चिल्ड्रन एजुकेशन अलाउंस को सालाना तौर पर देखें तो यह 24,750 रुपये हो जाता है, जबकि हॉस्टल फीस 74,250 रुपये बनती है। यह सुविधा बच्चों की 12वीं तक की पढ़ाई के लिए ही लागू है।

केंद्रीय कर्मचारियों को बच्चों की पढ़ाई के लिए अलाउंस भी मिलता है। 2008 में छठे वेतन आयोग की सिफारिशों के साथ ही केंद्र सरकार बच्चों की पढ़ाई के लिए इस भत्ते की मांग को भी लागू किया था। तब चिल्ड्रन एजुकेशन अलाउनस के तौर पर 1,500 रुपये प्रति माह का ऐलान किया गया था। इसके अलावा हॉस्टल सब्सिडी के तौर पर 4,500 रुपये की मंजूरी दी गई थी। हालांकि 7वें वेतन आयोग के तहत इस मद में बड़ा इजाफा किया गया है। आइए जानते हैं, केंद्रीय कर्मचारियों को कितना मिलता है चिल्ड्रन एजुकेशन अलाउंस…

– 7वें वेतन आयोग के तहत केंद्रीय कर्मचारियों को चिल्ड्रन एजुकेशन अलाउंस के तौर पर हर महीने 1,500 रुपये की बजाय 2,250 रुपये दिए जाते हैं। इसके अलावा हॉस्टल फीस को भी बढ़ाकर 4,500 से 6,750 रुपये कर दिया गया है।

– यदि बच्चा दिव्यांग है तो फिर अलाउंस की राशि दोगुनी हो जाती है। यदि चिल्ड्रन एजुकेशन अलाउंस को सालाना तौर पर देखें तो यह 24,750 रुपये हो जाता है, जबकि हॉस्टल फीस 74,250 रुपये बनती है। यह सुविधा बच्चों की 12वीं तक की पढ़ाई के लिए ही लागू है।

– बच्चों की फीस में इजाफे और अन्य खर्चों में बढ़ोतरी के चलते यह फैसला लिया गया था। चिल्ड्रन फीस अलाउंस का फॉर्मूला पहली बार छठे वेतन आयोग में ही लागू हुआ था।

– फिलहाल 12वीं तक की पढ़ाई के लिए दो बच्चों पर यह अलाउंस मिलता है। यदि किसी कर्मचारी के दो से ज्यादा बच्चे हैं तब भी इसे दो के लिए यह भत्ता मिलेगा।

– इस भत्ते को हासिल करने के लिए बहुत ज्यादा दस्तावेजों की भी जरूरत नहीं होती है। संस्थान के हेड की ओर से जारी गया प्रमाण पत्र ही काफी होता है, जहां बच्चा पढ़ रहा हो। इस सर्टिफिकेट में यह प्रमाणित किया जाता है कि बीते साल बच्चे ने हमारे संस्थान में इस कक्षा में पढ़ाई की। किसी भी तरह के दुरुपयोग के संदेह पर एंप्लॉयर की ओर से एफिडेविट भी मांगा जा सकता है।

Tags: , , , , , , , , , , ,

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.