लॉकडाउन 4.0 – इस राज्य में अब 6 दिन दफ्तरों में मौजूद रहेंगे सरकारी कर्मचारी, आज से लागू हुआ आदेश

| May 18, 2020

आदेश में कहा गया है कि एक बैच सोमवार और मंगलवार को ऑफिस में मौजूद रहेगा, जबकि बुधवार एवं गुरुवार को दूसरा बैच काम करेगा और तीसरे बैच की मौजूदगी शुक्रवार एवं शनिवार को होगी। यही नहीं वह स्टाफ जो कार्यालयों में मौजूद नहीं रहेगा। उन्हें भी कभी भी दफ्तर में बुलाया जा सकता है।

तमिलनाडु में सरकारी कर्मचारी 18 मई, 2020 से सप्ताह में छह दिन काम करेंगे। इसके साथ ही कोरोना के संकट के बीच भी 50 फीसदी कर्मचारी दफ्तर में मौजूद रहेंगे। सरकार की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि तीन रोस्टर तैयार किए गए हैं और हर बैच सप्ताह में दो दिन ऑफिस में मौजूद रहेंगे। इस तरह तमिलनाडु सरकार के दफ्तरों में 6 दिन कर्मचारियों की मौजूदगी रहेगी। आदेश में कहा गया है कि सोमवार से शनिवार तक दफ्तर खुले रहेंगे। हालांकि ऑफिस की समयसीमा पहले की तरह ही रहेगी।

आदेश में कहा गया है कि एक बैच सोमवार और मंगलवार को ऑफिस में मौजूद रहेगा, जबकि बुधवार एवं गुरुवार को दूसरा बैच काम करेगा और तीसरे बैच की मौजूदगी शुक्रवार एवं शनिवार को होगी। यही नहीं वह स्टाफ जो कार्यालयों में मौजूद नहीं रहेगा। उन्हें भी कभी भी दफ्तर में बुलाया जा सकता है। हालांकि ग्रुप ‘A’ के सभी अधिकारी और लेवल 25 से 32 तक के सभी कर्मचारी सभी कार्यदिवसों पर दफ्तर में मौजूद रहेंगे।

कोरोना के संकट से निपटने के लिए तमाम राज्य सरकारें और केंद्र सरकार अपने कर्मचारियों को वैकल्पिक दिनों में बुला रही हैं और बड़ी संख्या में एंप्लॉयीज घर से ही काम कर रहे हैं। यही नहीं कोरोना के संकट की वजह से राजस्व में कमी आने के चलते सरकारें कर्मचारियों को लेकर कठिन फैसले लेने पर भी मजबूर हुई हैं।

केंद्र सरकार ने अपने कर्मचारियों के बढ़े हुए डीए के भुगतान को रोक दिया है। इसके अलावा मार्च, 2021 तक डीए में इजाफा किए जाने पर भी रोक लगा दी है। केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद यूपी, मध्य प्रदेश, केरल और तमिलनाडु जैसे कई राज्यों में डीए में इजाफे को रोका गया है या फिर सैलरी में कटौती की गई है। हालांकि केंद्रीय कर्मचारियों के प्रमोशन को लेकर पिछले दिनों कार्मिक राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने यह जानकारी दी थी कि लॉकडाउन खुलने के बाद प्रोन्नति की प्रक्रिया शुरू होगी।

Tags: , , , , , , , , , ,

Category: News

About the Author ()

Comments are closed.