इस बात की भी चर्चा थी कि कर्मचारियों को मिलने वाली शनिवार और रविवार के साप्ताहिक अवकाश में से शनिवार की छुट्टी भी खत्म कर दी जाएगी।

कोरोना संकट और लॉकडाउन के चलते केंद्र ने केंद्रीय कर्मचारियों और पेंशनर्स के महंगाई भत्तों पर कैंची चलाई है। इस फैसले के बाद इस बात की चर्चा थी कि सरकार कर्मचारियों की शिफ्ट को 10 घंटे करने जा रही है। सरकार ने इस अफवाह करार देते हुए साफ किया है कि ऐसा कोई भी फैसलान हीं लिया गया है। सरकारी फैक्ट चेकर पीआईबी फैक्ट चेक ने एक ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी है।

@PIBFactCheck नाम के ट्वीटर हैंडल से ट्वीट कर कहा गया है कि यह दावा झूठा है। ट्वीट में कहा गया है कि कुछ खबरों के अनुसार, केंद्रीय कर्मचारियों को सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक काम करना होगा। केंद्र सरकार ने ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया है, ना ही ऐसे किसी प्रस्ताव पर विचार कर रही है।

सोशल मीडिया पर इस बात की भी चर्चा थी कि कर्मचारियों को मिलने वाली शनिवार और रविवार के साप्ताहिक अवकाश में से शनिवार की छुट्टी भी खत्म कर दी जाएगी। इससे पहले मंहगाई भत्ते में कटौती के बाद ऐसी चर्ची थीं कि सरकार कर्मचारियों के अन्य भत्तों पर भी कटौती करने जा रही है इसे भी पीआईबी फैक्ट चेक ने झूठ करार दिया था।

कहा जा रहा था कि 7वें वेतन आयोग के तहत मिलने वाले ट्रैवल अलाउंस और मेडिकल अलाउंस जैसे भत्तों में भी सरकार कमी करने की तैयारी में है। जिसके बाद पीआईबी ने अपने ट्विटर हैंडल से ऐसी तमाम खबरों का खंडन किया। कहा गया है कि ऐसा कोई प्रस्ताव नहीं है, इस तरह की कोई भी खबर आधारहीन और पूरी तरह से गलत है। ऐसी खबरों पर यकीन न करें और केंद्रीय कर्मचारियों को पहले की तरह ही भत्तों का भुगतान जारी रहेगा।